प्रोविडेंट फंड – व्यक्तिगत स्थिरता के लिए एक सामूहिक कोष

प्रोविडेंट फंड वे विशेष फंड हैं जिन्हें अनिवार्य अकाउंट माना जाता है, इन्हें लोगों द्वारा अपने सेवानिवृत्त जीवन के लिए पूर्व-आवश्यकता के रूप में बनाए रखा जाना चाहिए. प्रोविडेंट फंड को परिभाषित करने वाली मुख्य विशेषता यह है कि यह अकाउंट होल्डर के नाम से खोली जाती है, लेकिन रखरखाव या परिवर्तन सरकारी या विशेष नियामक निकायों के अनुसार किया जाता है.


अगर आपको पता है कि अपने PF को अच्छी तरह से कैसे प्रबंधित किया जाए, तो आप कुछ अन्य वित्तीय साधनों द्वारा प्रदान किए जाने वाले ऑफर का लाभ उठा सकते हैं, खासकर रिटायरमेंट के बाद फाइनेंशियल आजादी के लिए.


PF में मिलने वाली ब्याज़ दर क्या होती है?


ये ब्याज़ दरें न्यास बोर्ड द्वारा तय किये जाने के कारण वार्षिक आधार पर परिवर्तन के अधीन होती हैं, जिसकी निर्भरता सरकारी नियमों और बाजार के रुझान से सामने आए कारकों पर होती है. इन भविष्य निधि के साथ, आपको किसी भी प्रकार का टैक्स नहीं देना होता है, भले ही आप पांच साल या उससे अधिक समय के बाद अकाउंट से पैसे निकाल लें.

PF के विभिन्न प्रकार क्या हैं?


विभिन्न फाइनेंशियल साधनों के बीच मुख्य रूप से तीन अलग-अलग प्रकार के PF मौजूद हैं जो इस तरह की सर्विसेज़ का हिस्सा हैं. इनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  • सामान्य भविष्य निधि PF का एक प्रकार है जिसका रख-रखाव स्थानीय निकाय, रेलवे और ऐसे अन्य निकायों सहित सरकारी निकायों द्वारा किया जाता है. अतः, इस प्रकार के PF मुख्य रूप से सरकारी निकायों द्वारा संचालित किए जाते हैं.
  • मान्यता प्राप्त भविष्य निधि ऐसे सभी निजी स्वामित्व वाले संगठनों पर लागू होती है जिसमें 20 कर्मचारी से अधिक होते हैं. इसके अलावा, आपके संगठन से जुड़े PF के लिए आपको एक UAN या यूनिवर्सल अकाउंट नंबर दिया जाएगा. जब भी आप एक व्यवसाय से दूसरे व्यवसाय में जाते हैं, तो आप अपने PF फंड को एक नियोक्ता से दूसरे में ट्रांसफर कर सकते हैं.
  • सार्वजनिक भविष्य निधि को कर्मचारी की ओर से स्वैच्छिक प्रकार के इन्वेस्टमेंट के रूप में परिभाषित किया गया है. PPF में न्यूनतम रु. 50 और अधिकतम रु. 1.5 लाख डिपॉजिट किया जा सकता है. PF की मेच्योरिटी अवधि भी 15 साल के लिए पूर्व निर्धारित होती है, जिसके बाद ही अकाउंट से किसी भी प्रकार से निकासी की जा सकती है.

अपना PF बैलेंस चेक करने के विभिन्न तरीके क्या हैं?


आप अपना PF बैलेंस निम्नलिखित तरीकों से चेक कर सकते हैं:


  • UMANG ऐप डाउनलोड करें
  • EPFO वेबसाइट एक्सेस करें
  • EPFOHO UAN ENG को 7738299899 पर SMS करें
  • 011-22901406 पर मिस्ड कॉल दें
PF का प्रकार PF की प्रकृति डिपॉजिट की प्रकृति
सामान्य PF सरकारी निकायों के लिए लागू अनिवार्य
मान्यता प्राप्त PF निजी संगठनों के कर्मचारियों के लिए मान्य अनिवार्य
सार्वजनिक PF जन सामान्य पर लागू स्वैच्छिक

PF की निकासी, ट्रांसफर और क्लेम


अगर आप अपने PF फंड को निकालना चाहते हैं, तो आप या तो फिज़िकल एप्लीकेशन या ऑनलाइन एप्लीकेशन द्वारा डॉक्यूमेंट जमा कर सकते हैं. ऐसा करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप EPFO वेबसाइट पर जाएं और ट्रांसफर या निकासी प्रोसेस शुरू करने के लिए निम्नलिखित में से किसी भी तरीके का उपयोग करें:


  • UAN
  • डिज़िटल सिग्नेचर
  • आधार कार्ड और निजी विवरण

तीनों प्रक्रियात्मक पहलू के संदर्भ में इनमें से प्रत्येक को एक या कई अलग-अलग प्रोसेस में इस्तेमाल किया जा सकता है. PF ट्रांसफर के लिए फॉर्म 13 भरना होता है. दूसरी ओर, पैसा निकालने या क्लेम करने के लिए फॉर्म 31 (PF फंड का आंशिक रूप से पैसा निकालने), फॉर्म 10 से (पेंशन का पैसा निकालने) और फॉर्म 19 (अंतिम PF सेटलमेंट) आदि का प्रयोग किया जाता है.

 

विशेषता PF बजाज फाइनेंस FD
कर छूट हां नहीं
मेच्योरिटी तिथि PPF के लिए न्यूनतम 15 वर्ष. RPF/GPF के लिए, मेच्योरिटी तिथि अकाउंट होल्डर के रोज़गार की अवधि पर निर्भर होती है 12से60 महीने
अवधि की फ़्लेक्सिबलिटी हां, लेकिन अगर 5 वर्षों से पहले किया जाता है, तो टैक्स लगेगा हां
ब्याज़ दरें PFO के निर्णयों के अनुसार सालाना आधार पर उतार-चढ़ाव होता है 8.35% तक
न्यूनतम प्रारंभिक डिपॉजिट रु. 500 रु. 25000

अपनी PF राशि को कैसे इन्वेस्ट कर सकते हैं?


जब आप अपने प्रोविडेंट फंड के पैसे को निकालते हैं, तो आपको एक सरप्लस राशि मिलती है जिसे आप अपने रिटायरमेंट फंड के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं. आप अपने PF के पैसे को सुरक्षित इन्वेस्टमेंट साधनों में इन्वेस्ट करके अपने रिटायरमेंट फंड को बढ़ा सकते हैं.


अपने PF फंड को समय के साथ बढ़ाने के लिए, आप अपने पैसे को फिक्स्ड डिपॉजिट में इन्वेस्ट करने पर विचार कर सकते हैं, जो आपकी आय को बढ़ाता और उच्च रिटर्न प्रदान करता है. आप बजाज फाइनेंस फिक्स्ड डिपॉजिट में इन्वेस्ट कर सकते हैं, जहां आपको अपनी अवधि चुनने और समय-समय पर ब्याज़ भुगतान का लाभ मिलता है.


मन में अभी भी कोई प्रश्न हैं? अपनी सभी शंकाओं को दूर करने या FD खोलने की ऑनलाइन प्रक्रिया चेक करने के लिए बजाज फाइनेंस कस्टमर केयर से संपर्क करें

Provident Funds FAQs

How can I check my PF balance?

You can check your PF balance in a number of ways, as mentioned below-
 

  • EPFO portal: You can check your PF balance from your EPF e-passbook available on EPFO portal. You can login to the portal with your UAN.
  • UMANG App: You can also check your PF balance using the UMANG (Unified Mobile APP for New Governance) app. You can receive a link to download the app by giving a missed call to 9718397183. You can also download it from UMANG website or the app stores.
  • Missed call service: Members registered on the UAN portal can give a missed call to 011-22901406 from their registered mobile number. If your UAN is linked with your bank account number, PAN number or Aadhaar number, you will receive an SMS with the details of your last EPF contribution and PF Balance.
  • SMS service of EPFO: Members with activated UAN can also send an SMS with the text EPFOHO UAN ENG (ENG: your preferred language) to 7738299899 from their registered mobile number. This facility is available in 10 regional languages.

How can I get my PF UAN number?

You can get your UAN from your employer. Most companies print UAN number on the payslips. However, if your employer has not yet shared your UAN number with you, you can find it by following these steps:

  • Go to the EPFO’s Unified Member Portal and select ‘Know Your UAN’ status option.
  • You will be given three options to retrieve your UAN. You can find UAN with your PF member ID, Aadhaar number, or PAN number. Select any one of these three options.
  • You will be now redirected to another page wherein you have to enter your personal details such as name, mobile number, date of birth, email id, etc.
  • Once you submit these details, you will receive an authorization pin on your registered mobile number.
  • Upon entering this pin, your UAN will be sent to your registered mobile number and email id.

Who is eligible for provident fund?

All employees and workers earning less than Rs. 15,000 per month are eligible to receive the provident fund. Employees earning more than this are not eligible, but it is up to the discretion of the employer. All business entities with more than 20 employees are mandated to be members of the EPFO.

What is the benefit of provident fund?

Provident Fund is a superannuation fund for all employees in India. All companies under organised or unorganised sectors with more than 20 employees are mandated to be registered under the administrative entity - Employees' Provident Fund Organisation (EPFO). Both the employee and the employer are required to contribute to this fund until the employee is working with the company. Here’s how you can benefit with Provident Fund:

  • Build a corpus – The regular deduction of EPF contribution goes into your PF amount, which enables you to build a corpus over time.
  • Greater returns – The Government of India through the EPFO pays interest on the accumulated EPF corpus based on the prevailing interest rates in the economy. The interest rate is subject to review and revision each quarter under the Small Savings Act. According to experts, your EPF account continues to earn interest even if it has been lying dormant for more than 3 years.
  • Tax benefits – The employee’s contribution towards an EPF account is eligible for tax exemption under Section 80C, which also makes your earned interest exempt from tax.
  • Insurance benefits – With EPF, you can reap the benefits of Employees Deposit Linked Insurance (EDLI) Scheme, which is an insurance cover provided by the EPFO. Under this scheme, the registered nominee can receive a lumpsum amount in the event of the death of the person insured, during the period of service.
  • Premature withdrawal – The EPFO enables you to make partial withdrawals after 5-10 years of service, for meeting urgent requirements.
Thus, the EPF makes for an effective saving option, which enables you to save more and grow your retirement savings.

How can I withdraw my maximum PF amount?

The Provident Fund amount accumulates during your working life, thereby enabling you to ensure a comfortable retirement. Here’s how you can get the maximum PF amount:

  • PF will keep accumulating over time, if you choose not to withdraw it throughout your working life. This way, you can be assured of maximum PF amount, which can be used during your retirement.
  • You can withdraw the maximum amount of 90% of the total corpus, if you choose to withdraw the corpus 1 year before your retirement.
  • The event of loss of job has also been considered in the latest EPF withdrawal rules. According to these rules, 75% of the accumulated EPF corpus can be withdrawn 1 month after leaving the job. The remaining 25% can be withdrawn after 2 months of unemployment.
  • There are other options for partial withdrawal after a minimum of five to seven years of service. Such withdrawals can be on account of medical emergencies, house renovation, wedding, and home loan repayment. Each of them has a set of rules to be followed.
However, withdrawal before five years of service will attract tax as per your income tax bracket.