ग्रेच्युटी कैलकुलेटर

ग्रेच्युटी, संगठन को दी गई सेवाओं के लिए, एक नियोक्ता द्वारा कर्मचारी को प्रदान किया जाने वाला नकद लाभ है. कर्मचारी को रिटायरमेंट, इस्तीफा देने या नौकरी से निकाले जाने पर इसका भुगतान किया जाता है, बशर्ते कि कर्मचारी ने संगठन छोड़ने से पहले पांच वर्ष की निरंतर सेवाएं पूरी की हों. कुछ मामलों में, जैसे कि व्यक्ति की मृत्यु होने पर, लगातार 5 वर्ष की सेवा की शर्ट में छूट दी जाती है.

डिस्क्लेमर

ग्रेच्युटी राशि की गणना केवल एक अनुमान है और आपके द्वारा प्रदान की गई जानकारी के आधार पर की जाती है. इसलिए, वास्तविक राशि थोड़ी अलग हो सकती है.

ग्रेच्युटी कैलकुलेटर क्या है?

अगर आप न्यूनतम पांच वर्ष की सेवा के बाद नौकरी छोड़ने की योजना बनाते हैं या अपने रिटायरमेंट के बाद प्राप्त की जाने वाली राशि का अनुमान लगाना चाहते हैं, तो आप ग्रेच्युटी कैलकुलेटर का उपयोग कर सकते हैं. ग्रेच्युटी की गणना के लिए विभिन्न नियम होते हैं जिनका आपको ध्यान रखना चाहिए. हम कई नियमों को देखेंगे जो आपकी ग्रेच्युटी राशि का अनुमान लगाने में मदद करेंगे, ताकि आप प्राप्त होने वाले पैसे के इन्वेस्टमेंट को बेहतर तरीके से प्लान कर सकें.

ग्रेच्युटी कैलकुलेशन फॉर्मूला

ग्रेच्युटी नियम और गणनाएं ग्रेच्युटी भुगतान अधिनियम, 1972 द्वारा निर्धारित किए जाते हैं.

इसमें मुख्य रूप से दो श्रेणियां हैं, जो नीचे दी गई हैं

  • कैटेगरी 1: अधिनियम के तहत कवर किए गए कर्मचारी
  • कैटेगरी 2: अधिनियम के तहत कवर नहीं किए गए कर्मचारी

ये दो श्रेणियां निजी और सरकारी कर्मचारियों दोनों को कवर करती हैं. सरकारी कर्मचारियों के लिए, उनकी सेलरी के अधिक भागों का हिसाब किया जाता है, जैसे कि महंगाई भत्ता. इसके अलावा, पिछले 12 महीनों के लिए एक दिन भी काम करने वाले, कम से कम दस कर्मचारियों वाले सभी संगठनों को ग्रेच्युटी का भुगतान करना होता है.

कैटेगरी 1: अधिनियम के तहत कवर किए गए कर्मचारी

दो महत्वपूर्ण मानदंडों - सेवा के वर्ष और पिछले सेलरी - का उपयोग करके, आप निम्नलिखित रूप में ग्रेच्युटी की गणना कर सकते हैं:

ग्रेच्युटी = अंतिम सेलरी x (15/26*) x सेवा के वर्ष

*प्रति माह कार्य दिवसों की संख्या 26 दिन के रूप में ली जाती है.

**ग्रेच्युटी की गणना 15 दिनों के आधार पर की जाती है.

अंतिम सेलरी की गणना निम्नलिखित अंशों को ध्यान में रखकर की जानी चाहिए:

  • बेसिक
  • महंगाई भत्ता - सरकारी कर्मचारियों के लिए
  • सेल्स पर प्राप्त कमीशन

उदाहरण: अगर आप 10 वर्ष और चार महीने की अवधि के लिए काम कर रहे हैं और आपकी अंतिम मूल सेलरी रु. 80,000 थी, तो आपको फॉर्मूला के अनुसार आपकी ग्रेच्युटी राशि होगी:

ग्रेच्युटी = रु. 80,000 x (15/26) x 10 = रु. 4.62 लाख

चार महीने 5 से कम हैं, इसलिए इन्हें राउंड ऑफ करके 10 बनाया जा रहा है. पांच से अधिक महीनों को अगले वर्ष पर राउंड ऑफ किया जाता है.

कैटेगरी 2: अधिनियम के तहत कवर नहीं किए गए कर्मचारी

अगर संगठन अधिनियम के तहत कवर नहीं किया जाता है, तो भी आपको ग्रेच्युटी मिल सकती है. ऐसे मामले में, एक महीने में काम करने वाले दिनों की संख्या 26 दिनों के बजाय 30 दिन में बदल जाएगी.

ग्रेच्युटी = अंतिम सेलरी x (15/30) x सेवा के वर्ष

ऊपर दिए गए उदाहरण में, अगर आपका संगठन अधिनियम के तहत कवर नहीं किया जाता है, तो गणना निम्नानुसार होगी:

ग्रेच्युटी = रु. 80,000 x (15/30) x 10 = रु. 4.00 लाख

इस अधिनियम के तहत कवर किए गए कर्मचारियों के लिए, कम मूल्यवर्ग का लाभ दिया जाता है. इसलिए, एक महीने में कार्य दिवस को 30 दिनों के बजाय 26 दिन लिया जाता है.

आपको अपने ग्रेच्युटी फंड को कहां इन्वेस्ट करना चाहिए?

अगर इन्हें बुद्धिमानी से इन्वेस्ट किया जाए, तो ग्रेच्युटी फंड आपको बेहतर रिटर्न प्रदान कर सकते हैं. ग्रेच्युटी के पैसे को सेविंग अकाउंट में रहने न दें, जहां महंगाई के करण, इनका मूल्य समय के साथ घटता जाएगा. आप इस राशि को फिक्स्ड डिपॉजिट में इन्वेस्ट कर सकते हैं जो लाभकारी, सुरक्षित और स्थिर इन्वेस्टमेंट विकल्प हैं, और आसानी से अच्छे रिटर्न अर्जित कर सकते हैं.