होम लोन पर टैक्स लाभ: अनुभाग 24, 80EE और 80C

भारत में, घर की खरीद या निर्माण के लिए पैसा जुटाने हेतु प्राथमिक विकल्पों में से होम लोन एक है. बजाज फिनसर्व उधारकर्ताओं के लिए आकर्षक विशेषताओं और लाभों के साथ रु. 3.5 करोड़ तक का उच्च-मूल्य वाला लोन प्रदान करता है. लोन के लिए अप्लाई करते समय, महत्वपूर्ण कारकों में से एक होम लोन पर टैक्स लाभ है.

आयकर अधिनियम, 1961 के अनुसार, उधारकर्ता विभिन्न सेक्शन के तहत होम लोन पर टैक्स लाभ प्राप्त कर सकते हैं और वार्षिक रूप से टैक्स के रूप में काफी नकदी प्रवाह बचा सकते हैं.


IT अधिनियम में कौन से सेक्शन होम लोन पर टैक्स लाभ प्रदान करते हैं?

कोई व्यक्ति नीचे दिए गए सेक्शन के तहत विभिन्न तरीकों से होम लोन पर टैक्स लाभ का क्लेम कर सकता है:

IT अधिनियम में सेक्शन
इनकम टैक्स में होम लोन कटौती का प्रकार
अधिकतम कटौती योग्य राशि
सेक्शन 80 सी Tax deductions on the principal repayment रु. 1.5 लाख
Section 24 Tax deductions on the interest amount payable रु. 2 लाख
Section 80EE Additional home loan interest tax benefit for first-time home buyers रु. 50,000

The Government of India extends these benefits as a form of relief to borrowers, making it more affordable.


Elaborating the Home Loan Tax Sections in Details:

On availing a home loan, you need to make monthly repayments as EMIs, which include two primary components – principal amount and interest payable. The IT Act enables borrowers to enjoy tax benefits on both these components individually.

1. Section 80C

  • Claim a maximum home loan tax deduction of up to Rs. 1.5 Lakh from your taxable income on the principal repayment.
  • इसमें स्टांप शुल्क और रजिस्ट्रेशन शुल्क भी शामिल हो सकते हैं, लेकिन इनका केवल एक बार क्लेम किया जा सकता है.

2. सेक्शन 24

  • देय ब्याज़ राशि पर अधिकतम रु. 2 लाख तक की कटौती का लाभ उठाएं.
  • ये कटौती केवल उस प्रॉपर्टी पर अप्लाई होती है जिसका निर्माण 5 वर्षों के भीतर समाप्त हो गया है. अगर यह इस समय सीमा के भीतर खत्म नहीं होता है, तो आप केवल रु. 30,000 तक का क्लेम कर सकते हैं.

3. सेक्शन 80EE

  • पहली बार घर खरीदने वाले, हर फाइनेंशियल वर्ष में देय ब्याज़ पर रु. 50,000 का अतिरिक्त क्लेम कर सकते हैं.
  • होम लोन की राशि रु. 35 लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए.
  • प्रॉपर्टी की कीमत रु. 50 लाख के भीतर होनी चाहिए.
  • ध्यान देने योग्य कुछ अन्य शर्तें:

    1. टैक्स में छूट केवल तब लागू होती है जब प्रॉपर्टी का निर्माण पूरा हो जाता है, या आप बना-बनाया घर खरीदते हैं.
    2. हर साल इन टैक्स लाभों का फायदा उठाएं और भारी मात्रा में सेविंग करें.
    3. अगर आप प्रॉपर्टी को अपने कब्जे के 5 साल के भीतर बेच देते हैं, तो क्लेम किए गए लाभ वापस हो जाएंगे और आपकी आय में जुड़ जाएंगे.
    4. आप प्रॉपर्टी खरीद सकते हैं और इसे किराए पर दे सकते हैं. इस मामले में, होम लोन पर टैक्स छूट के रूप में क्लेम करने के लिए कोई अधिकतम राशि लागू नहीं है.
    5. होम लोन का लाभ उठाते समय, अगर आप किसी अन्य घर में किराए पर रहना जारी रखते हैं, जहां वर्तमान में निवास करते हैं, तो आप HRA पर टैक्स लाभ का क्लेम भी कर सकते हैं.

    What are the Tax Deductions on a Joint Home Loan?

    In case of a home loan jointly, every borrower can enjoy tax benefits on joint home loan from his/her taxable income individually. One can claim a maximum of Rs. 2 Lakh on the interest paid and up to Rs. 1.5 Lakh on the principal amount. Any family member, friend or even the spouse can be a co-borrower of a Joint Home Loan from Bajaj Finserv.
    The only condition is that every applicant of the housing loan must be a co-owner of that residential property.
     

    Is There Home Loan Tax Benefit on a Second House?

    If you take a second home loan to purchase another property, tax benefits are applicable on the payable interests. Here, you can claim the entire interest amount paid as no cap is applied here.
    Currently, individuals can claim only one property as self-occupied and make tax payments on the other based on notional rent. In the February 2019’s Interim Budget, a proposal has been put forward stating that an individual can claim a second home as self-occupied property. This aims to help borrowers save more in the form of taxes.
     

    How to Claim Tax Benefit on Home Loan?

    The process to claim tax benefits on a home loan is easy and simple.

    1. Make sure the residential property is in your name. In case of a joint home loan, ensure to be the house’s co-owner.
    2. Calculate the total amount you can claim as a tax deduction.
    3. Hand over your employer the home loan interest certificate so that he can adjust the TDS.
    4. On failing to follow this step, you need to file your IT returns.
    Self-employed borrowers need not submit these documents. They must keep these handy to provide if a query arises in the future.

    How Can You Calculate Tax Benefits on Home Loan?

    Use the Bajaj Finserv’s Income Tax Calculator to compute the tax benefits without any hassle. It is an online tool which instantly calculates the amount based on certain home loan details. Some of those include home loan amount, rate of interest, existing tax deductions, gross annual salary, etc.
    Simply enter the details required and check the tax benefits you can avail.
    In India, purchasing a property is considered as a significant investment decision. Hence, approach Bajaj Finserv and avail the most competitive home loan interest rate along with other benefits to own your dream house.
     

    होम लोन की तुंरत मंज़ूरी

    कृपया अपना प्रथम और अंतिम नाम दर्ज़ करें
    कृपया 10 अंकों का मोबाइल नंबर दर्ज़ करें
    कृपया मान्य ऑफिस ईमेल ID दर्ज़ करें
    कृपया लिस्ट में से अपने नियोक्ता का नाम चुनें

    अन्य लोकप्रिय प्रॉडक्ट के बारे में जानें

    होम लोन पात्रता कैलकुलेटर

    अपनी होम लोन की पात्रता जानें और उसी के अनुसार एप्लीकेशन राशि प्लान करें

    अभी कैलकुलेट करें

    होम लोन बैलेंस ट्रांसफर

    अतिरिक्त डॉक्यूमेंटेशन के बिना टॉप-अप लोन पाएं

    अभी अप्लाई करें

    घर और लोन

    अपने सपनों का घर ढूंढे़ं
    18000 + प्रॉपर्टीज़ में से

    और अधिक जानें

    होम लोन EMI कैलकुलेटर

    लोन राशि पर अपनी मासिक EMI, किश्त और ब्याज़ दरों को कैलकुलेट करें

    अभी कैलकुलेट करें