स्टाम्प ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन शुल्क कैलकुलेटर

होम लोन लेते समय, घर की लागत के अलावा और कई खर्चों को ध्यान में रखना ज़रूरी होता है. स्टाम्प ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन शुल्क आपके नए घर के स्वामित्व को रजिस्टर करते समय लगने वाले कुछ अतिरिक्त शुल्क हैं. बजाज फिनसर्व स्टाम्प ड्यूटी कैलकुलेटर आपको अपनी प्रॉपर्टी पर लागू स्टाम्प ड्यूटी की राशि का सटीक आकलन करने में मदद करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, ताकि आपको यह पता चले कि आपको कितना होम लोन चाहिए.

स्टाम्प ड्यूटी क्या है?

अगर आप कोई नई प्रॉपर्टी खरीद रहे हैं, तो आपको स्टाम्प ड्यूटी नामक शुल्क का भुगतान करना होगा, यह शुल्क राज्य सरकार द्वारा लगाया जाता है. इस शुल्क का उपयोग आपके नाम पर आपकी प्रॉपर्टी का रजिस्ट्रेशन सत्यापित करने और आपके प्रॉपर्टी के स्वामित्व के डॉक्यूमेंट्स को मान्यता प्रदान करने के लिए किया जाता है. प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन डॉक्यूमेंट पर स्टाम्प शुल्क का भुगतान किए बिना, आपको विचाराधीन प्रॉपर्टी का कानूनी मालिक नहीं माना जाएगा.

भारत में स्टाम्प ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन शुल्क कैसे हैं?

स्टाम्प ड्यूटी आम तौर पर प्रॉपर्टी की मार्केट वैल्यू की 5-7% होती है. रजिस्ट्रेशन शुल्क प्रॉपर्टी की मार्केट वैल्यू का 1% होता है. हालांकि, ये शुल्क लाखों रुपये में हो सकते हैं. अपना घर खरीदते समय और अपने नाम पर प्रॉपर्टी रजिस्टर करवाते समय पैसों की कोई कमी न होने के लिए, यह सुनिश्चित करें कि जब आप होम लोन राशि के लिए अप्लाई करते हैं तो आपको स्टाम्प ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन शुल्क को भी ध्यान में रखें.

आपको स्टांप ड्यूटी के रूप में कितनी राशि का भुगतान करना है, यह विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है. ये हैं:

  • प्रॉपर्टी की मार्केट वैल्यू
  • प्रॉपर्टी का प्रकार, फ्लोर की संख्या के साथ
  • प्रॉपर्टी का उद्देश्य- रेजिडेंशियल या कमर्शियल
  • प्रॉपर्टी का स्थान
  • प्रॉपर्टी के मालिक की आयु और लिंग

क्या स्टाम्प ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन शुल्क होम लोन में शामिल हैं?

यह एक नियम है कि, स्टाम्प ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन शुल्क लेंडर्स द्वारा स्वीकृत होम लोन राशि में शामिल नहीं होते हैं. इनका भुगतान खरीदार को अपनी जेब से करना होता है.

विभिन्न शहरों में स्टाम्प शुल्क शुल्क

राज्य

स्टाम्प ड्यूटी की दरें*

आंध्र प्रदेश

5%

छत्तीसगढ़

पुरुष: 7%

महिलाएं: 6%

गुजरात

4.9%

हरियाणा

पुरुष - 7%

महिलाएं – 5%

कर्नाटक

5% (रु. 35 लाख से अधिक पर)

3% (रु. 21-35 लाख पर)

2% (रु. 20 लाख से कम पर)

केरल

8%

मध्य प्रदेश

7.50 %

महाराष्ट्र

6%

ओडिशा

पुरुष: 5%

महिला: 4%

पंजाब

7% (पुरुष)

5% (महिला)

राजस्थान

पुरुष: 6%

महिला: 5%

तमिलनाडु

7%

तेलंगाना

5%

उत्तर प्रदेश

7%

उत्तराखंड

5%

पश्चिम बंगाल

रु. 40 लाख तक - 7%

रु. 40 लाख से अधिक - 8%


* स्टाम्प ड्यूटी के अलावा लागू रजिस्ट्रेशन शुल्क का भुगतान किया जाना चाहिए

डिस्क्लेमर

ये दरें संकेतक हैं और कानूनों और सरकारी दिशानिर्देशों के आधार पर बदलाव के अधीन हैं. कस्टमर को वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के आधार पर कोई भी निर्णय लेने से पहले स्वतंत्र रूप से कानूनी परामर्श लेने की सलाह दी जाती है. यूज़र के निर्णय की ज़िम्मेदारी पूरी तरह से यूज़र पर होगी. किसी भी घटना में बीएफएल या बजाज ग्रुप या उसका कोई एजेंट या इस वेबसाइट के निर्माण, उत्पादन या डिलीवरी में शामिल किसी भी अन्य व्यक्ति को किसी भी प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष, दंडात्मक, आकस्मिक, विशेष, परिणामी नुकसान (राजस्व या मुनाफे की हानि, बिज़नेस या डेटा की हानि सहित) या उपरोक्त जानकारी पर यूज़र की निर्भरता से जुड़े किसी भी नुकसान के लिए उत्तरदायी नहीं माना जाएगा.

क्या स्टाम्प ड्यूटी को टैक्स कटौती के रूप में क्लेम किया जा सकता है?

हां, स्टाम्प ड्यूटी को इनकम टैक्स ऐक्ट की धारा 80C के तहत टैक्स कटौती के लिए क्लेम किया जा सकता है जिसकी अधिकतम लिमिट रु. 1,50,000 होगी.

क्या स्टाम्प ड्यूटी वापसी योग्य है?

नहीं, स्टाम्प ड्यूटी रिफंडेबल नहीं है.

क्या स्टाम्प ड्यूटी में GST शामिल है?

अब तक, स्टाम्प ड्यूटी और GST प्रॉपर्टी की बिक्री पर लगाए जाने वाले अलग-अलग शुल्क हैं, और इनका एक दूसरे पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है.

स्टाम्प ड्यूटी का भुगतान कैसे करें?

आप निम्न में से किसी भी तरीके से, स्टाम्प ड्यूटी का भुगतान ऑनलाइन या ऑफलाइन कर सकते हैं:

  • फिज़िकल स्टाम्प पेपर: यह स्टाम्प ड्यूटी का भुगतान करने का सबसे आम तरीका है. स्टाम्प पेपर अधिकृत विक्रेताओं से ही खरीदा जा सकता है. इस पर प्रॉपर्टी के रजिस्ट्रेशन या एग्रीमेंट के विवरण लिखे जाते हैं. लेकिन, अगर स्टाम्प ड्यूटी शुल्क बहुत ज़्यादा है, तो यह विधि असुविधाजनक हो जाती है क्योंकि ऐसी स्थिति में आपको बहुत सारे स्टाम्प पेपर खरीदने पड़ते हैं
  • फ्रैंकिंग: इस विधि में, आपको एक अधिकृत फ्रैंकिंग एजेंट के पास जाना होगा, जो आपके प्रॉपर्टी डॉक्यूमेंट पर स्टाम्प लगाएगा, जो यह दर्शाएगा कि स्टाम्प ड्यूटी का भुगतान किया जा चुका है. इस विधि का उपयोग करने के लिए आमतौर पर एक न्यूनतम राशि की आवश्यकता होती है. इसके अलावा, एजेंट द्वारा फ्रैंकिंग शुल्क लिया जाता है, जिसे आपके द्वारा भुगतान की जाने वाली कुल स्टाम्प ड्यूटी से घटा दिया जाता है. अधिकांश बैंक घर खरीदने वाले लोगों को फ्रैंकिंग एजेंट की सर्विसेज़ प्रदान करते हैं
  • ई-स्टाम्पिंग: ई-स्टाम्पिंग स्टाम्प ड्यूटी शुल्क का भुगतान करने का सबसे सुविधाजनक तरीका है, क्योंकि आप एसएचसीआईएल वेबसाइट (स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया) के माध्यम से ऑनलाइन ऐसा कर सकते हैं. बस वेबसाइट पर जाएं, उस राज्य को चुनें जिसमें आपकी प्रॉपर्टी स्थित है, एप्लीकेशन फॉर्म भरें और फॉर्म को आवश्यक पैसों के साथ कलेक्शन सेंटर पर सबमिट करें. जैसे ही आप इस राशि का भुगतान करेंगे, आपको एक विशिष्ट पहचान संख्या (यूआईएन) के साथ एक ई-स्टाम्प सर्टिफिकेट मिल जाएगा.

शीर्ष शहरों में स्टाम्प ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन शुल्क:

मुंबई में स्टाम्प ड्यूटी और प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन शुल्क

दिल्ली में स्टाम्प ड्यूटी और प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन शुल्क

चेन्नई में स्टाम्प ड्यूटी और प्रॉपर्टी शुल्क

बेंगलुरु में स्टाम्प ड्यूटी और प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन शुल्क

कोलकाता में स्टाम्प ड्यूटी और प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन शुल्क

ठाणे में स्टाम्प ड्यूटी और प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन शुल्क

अहमदाबाद में स्टाम्प ड्यूटी और प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन शुल्क