मीभूमि: AP लैंड रिकॉर्ड्स

2 मिनट का आर्टिकल

विभिन्न भारतीय राज्यों में लैंड रिकॉर्ड के डिजिटलीकरण ने भूमि स्वामित्व और संबंधित सर्विसेज़ से जुड़ी जानकारियों के एक्सेस को आसान बना दिया है. आंध्र प्रदेश की राज्य सरकार ने भी राज्य में प्रॉपर्टी मालिकों के लिए संबंधित सर्विसेज़ का उपयोग आसान बनाने के लिए मीभूमि नामक पोर्टल शुरू किया है.

इस पोर्टल से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए पढ़ें.

मीभूमि क्या है?

आंध्र प्रदेश सरकार ने भूमि स्वामित्व से संबंधित सभी डॉक्यूमेंट्स और सर्विसेज़ को डिजिटल करने के उद्देश्य से 2015 में मीभूमि AP को लॉन्च किया था. यह पोर्टल राज्य में सभी रियल एस्टेट मालिकों, खरीदारों और विक्रेताओं को लैंड रिकॉर्ड का आसान एक्सेस प्रदान करता है. यह मीभूमि पासबुक के साथ आता है, जिसकी सहायता से भूमि मालिक अपनी भूमि से संबंधित विवरणों जैसे टैक्स भुगतान, राज्य को देय राशि आदि देख सकते हैं.

मीभूमि के क्या लाभ हैं?

यूज़र मीभूमि पोर्टल के माध्यम से निम्नलिखित लाभ प्राप्त कर सकते हैं.

  • AP लैंड रिकॉर्ड का ऑनलाइन आसान एक्सेस.
  • यूज़र आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से भी गांव के नक्शों के साथ-साथ मीभूमि FMB या फील्ड मैनेजमेंट बुक को एक्सेस कर सकते हैं.
  • यह एनकम्ब्रेंस सर्टिफिकेट की रसीद और लैंड रिकॉर्ड के रखरखाव से संबंधित प्रोसेस में पारदर्शिता लाता है.
  • कोई भी व्यक्ति या आंध्र भूमि मालिक इस वेबसाइट और ऐप को कहीं से भी एक्सेस कर सकता है.
  • यूज़र इस वेबसाइट पर आंध्र प्रदेश भूमि से संबंधित शिकायतें भी दर्ज कर सकते हैं.
  • SMS सेवा से पट्टादारों और पदाधिकारियों को संबंधित प्रोसेस की प्रोग्रेस की जानकारी मिलती है.

मीभूमि की विशेषताएं क्या हैं?

भूमि रिकॉर्ड और संबंधित सेवाओं के भ्रष्टाचार-मुक्त और आर्थिक प्रशासन के लिए इस राज्य द्वारा शुरू की गई मीभूमि AP पोर्टल यूज़र को निम्नलिखित लाभ प्रदान करता है.

  • AP 1-B लैंड रिकॉर्ड से जुड़ी जानकारी का एक्सेस
  • सर्वे की रेंज
  • जिला/प्रान्त से संबंधित जोखिम
  • पट्टा नाम
  • प्लॉट से संबंधित देयता
  • लैंड रिकॉर्ड के साथ आधार कार्ड की लिंकिंग
  • पट्टा पासबुक
  • गांव के भूमि मालिकों की लिस्ट
  • पट्टा बैंकबुक से संबंधित आंकड़े
  • भूमि के उपयोग में परिवर्तन का विवरण
  • व्यक्तिगत या ग्राम अडंगल रिकॉर्ड
  • फसल का विवरण
  • पट्टेदारी
  • मिट्टी और जल स्रोत का प्रकार

यूज़र मीभूमि पोर्टल के माध्यम से, अडंगल और 1-B की सॉफ्टकॉपी भी डाउनलोड कर सकते हैं, जो राज्य के भूमि स्वामित्व अधिकारों के रिकॉर्ड के रूप में कार्य करते हैं.

अडंगल AP क्या है?

अडंगल AP या मीभूमि अडंगल आंध्र प्रदेश की भौगोलिक सीमाओं के भीतर स्थित किसी भी प्लॉट से संबंधित एक विस्तृत विवरण है. इस डॉक्यूमेंट को गांव के संबंधित प्रशासनिक अथॉरिटी के द्वारा मेंटेन किया जाता है. इसमें किसी व्यक्ति के स्वामित्व में आने वाली भूमि, पट्टेदारी, मिट्टी की प्रकृति, मौजूदा देयताएं आदि जैसे विवरण शामिल हो सकते हैं.

स्थानीय लोग इसे 'विलेज काउंट नंबर 3' या 'पहानी' के रूप में भी जानते हैं और आमतौर पर भूमि की बिक्री या खरीद के दौरान इसका इस्तेमाल करते हैं.

मीभूमि अडंगल को देखने की प्रक्रिया

किसी प्लॉट के लिए अडंगल डॉक्यूमेंट देखने के लिए निम्नलिखित चरणों को पूरा करें:

  1. आधिकारिक मीभूमि वेबसाइट पर जाएं और अडंगल विकल्प पर स्क्रोल करें.
  2. मेनू एक्सेस करने के लिए अडंगल पर क्लिक करें और व्यक्तिगत या ग्राम अडंगल में से चुनें.
  3. आपको एक नए पेज पर ले जाया जाएगा, जिसमें आपको जिला, ज़ोन, गांव आदि के नाम जैसे विवरण भरने के लिए कहा जाएगा. आधार नंबर, सर्वे नंबर, ऑटो म्यूटेशन रिकॉर्ड और अकाउंट नंबर की मदद से इन विवरण को एक्सेस करें.
  4. सभी विवरणों को भरने के बाद, अपने मीभूमि अडंगल विवरण को एक्सेस करने के लिए 'क्लिक करें' पर दबाएं.

ROR 1-B डॉक्यूमेंट क्या है?

आंध्र प्रदेश में लोकप्रिय रूप से 1-B के नाम से जाना जाने वाला अधिकारों का रिकॉर्ड (ROR) एक ऐसा डॉक्यूमेंट है, जो राज्य के राजस्व विभाग द्वारा मेंटेन किए गए लैंड रिकॉर्ड की संक्षिप्त जानकारी प्रदान करता है.

इसे मीभूमि पोर्टल पर डिजिटाइज़ेशन प्रोसेस लागू करने से पहले, भूमि के रिकार्ड की लिस्टिंग करने के लिए गांवों में बनाए जाने वाले मैनुअल और अन्य रजिस्टर से प्राप्त किया जा सकता है.

मीभूमि पर आधार कार्ड लिंक करने का प्रोसेस

चेक करें कि क्या आपका आधार नंबर आपके अकाउंट नंबर और लैंड रिकॉर्ड से लिंक है. अगर लिंक नहीं है, तो भूमि के साथ आधार को लिंक करने के लिए निम्नलिखित चरणों को पूरा करें.

चरण 1: मीभूमि पोर्टल पर, टॉप मेनू पर स्क्रॉल करें और 'आधार/अन्य पहचान' चुनें’.

चरण 2: जो ड्रॉप-डाउन खोलता है, पहले विकल्पों पर क्लिक करें, यानी 'आधार लिंकिंग', और आधार लिंक है या नहीं, यह चेक करने के लिए ज़ोन, जिला और गांव के नाम जैसे विवरण दर्ज करें.

चरण 3: बाद के बॉक्स में प्रदर्शित कोड भरें और 'क्लिक' बटन पर दबाएं.

विवरण प्रदान करने के बाद, पेज यह दिखाएगा कि आपका आधार नंबर लैंड रिकॉर्ड से लिंक है या नहीं. इसी प्रोसेस से यह भी पता चलेगा कि अन्य डॉक्यूमेंट जैसे कि राशन कार्ड, वोटर ID, पट्टादार पासबुक आदि मीभूमि पर आपके अकाउंट और लैंड रिकॉर्ड से लिंक हैं या नहीं. अगर वे लिंक हैं, तो आप उन डॉक्यूमेंट्स को आगे खुलने वाले पेज पर PDF फॉर्मेट में देख सकते हैं.

आंध्र प्रदेश में ई-पासबुक कैसे प्राप्त करें?

आंध्र प्रदेश के भूमि के मालिक मीभूमि एपी पोर्टल के माध्यम से डिजिटल रूप से अपनी पासबुक भी एक्सेस कर सकते हैं. AP में अपनी ई-पासबुक एक्सेस करने के लिए निम्नलिखित चरणों को पूरा करें.

चरण 1: पोर्टल पर, टॉप मेनू पर स्क्रॉल करें और 'इलेक्ट्रॉनिक पासबुक' चुनें’.

चरण 2: नए पेज पर, आगे बढ़ने के लिए अकाउंट नंबर, रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर, ज़ोन, ज़िला और गांव का नाम जैसे आवश्यक विवरण दर्ज करें.

चरण 3: इसके बाद, प्रदान किए गए कोड को दर्ज करके अपनी पहचान की पुष्टि करें.

सभी विवरण सही ढंग से दर्ज किए जाने पर, आपकी ई-पासबुक तुरंत जनरेट हो जाएगी और स्क्रीन पर दिखने लगेगी.

AP लैंड रिकॉर्ड देखने का प्रोसेस

आप निम्नलिखित कुछ चरणों में 1-B या ROR विवरण एक्सेस करके राज्य में अपनी प्रॉपर्टी के लिए लैंड रिकॉर्ड को देख सकते हैं.

  1. मीभूमि पोर्टल के होमपेज पर ऊपर मेनू में जाएं और वहां से '1-B' चुनें.
  2. डिस्प्ले होने वाले ड्रॉप-डाउन से, '1-B का विकल्प चुनें’.
  3. रीडायरेक्ट किए गए पेज पर, ज़ोन, जिला, गांव आदि जैसे आवश्यक विवरण भरें. इन विवरणों को उचित रूप से एक्सेस करने के लिए, फॉर्म के ठीक ऊपर दिए गए सर्वे नंबर, अकाउंट नंबर, ऑटो म्यूटेशन रिकॉर्ड, अडारू नंबर और पट्टादार का नाम जैसे विकल्पों में से किसी को भी चुनें.
  4. फॉर्म भरने के बाद, आंध्र प्रदेश में अपने भूमि के रिकॉर्ड को देखने के लिए बॉक्स में प्रदर्शित 5-अंकों का कोड दर्ज करें.

ध्यान दें कि 1-B और अडंगल दोनों आंध्र प्रदेश के लैंड रिकॉर्ड हैं. हालांकि, 1-B को तहसीलदार द्वारा मेंटेन किया जाता है और उसमें आमतौर पर विक्रेता का विवरण होता है. दूसरी तरफ, अडंगल में भूमि का प्रकार, उपयोग का तरीका, और भूमि से संबंधित अन्य विशिष्ट जानकारियां शामिल होती हैं.

मीभूमि पर शिकायत स्टेटस कैसे ट्रैक करें?

लैंड रिकॉर्ड में त्रुटियों और उनमें सुधार से संबंधित किसी भी शिकायत के मामले में, दिए गए कुछ चरणों को पूरा करके अपने शिकायत स्टेटस को ट्रैक करें.

  1. इस पोर्टल के होम पेज के ऊपर मेनू में, 'शिकायत करें' विकल्प पर जाएं.
  2. यह एक ड्रॉप-डाउन मेनू खुलता है; उपलब्ध विकल्पों में से 'अपनी शिकायत का स्टेटस' चुनें.
  3. इसके बाद खुलने वाले पेज पर, उस जिले का नाम चुनें, जहां भूमि स्थित है और अपना शिकायत नंबर दर्ज करें.

शिकायत नंबर दर्ज करने के बाद, आपकी शिकायत का स्टेटस तुरंत दिखाई देने लगेगा. आप ऑनलाइन उपलब्ध विभिन्न मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से भी आंध्र प्रदेश के लैंड रिकॉर्ड से संबंधित विभिन्न विवरणों को एक्सेस कर सकते हैं.

विवरण को एक्सेस करते समय, ऐसे एप्लीकेशन के स्रोतों की अवश्य जांच कर लें, क्योंकि आंध्र प्रदेश सरकार या मीभूमि पोर्टल का ऐसे एप्लीकेशन से कोई संबंध या जुड़ाव नहीं है. प्रामाणिक AP लैंड रिकॉर्ड के लिए केवल वेब आधारित पोर्टल ही एक्सेस करें.

अपने सपनों के घर के करीब आसान बनाने के लिए, 30 वर्ष तक की सुविधाजनक अवधि के साथ कम होम लोन की ब्याज़ दर पर पात्रता के आधार पर रु. 5 करोड़ या उससे अधिक के होम लोन के लिए बजाज फिनसर्व में अप्लाई करें. तुरंत मंज़ूरी के साथ न्यूनतम डॉक्यूमेंटेशन की आवश्यकता होगी.

अधिक पढ़ें कम पढ़ें