पीएमएवाय ग्रामीण लिस्ट 2022-23

केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई थी प्रधानमंत्री आवास योजना का उद्देश्य क्रमशः पीएमएवाय-यू और पीएमएवाय-जी के तहत शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में सभी के लिए किफायती हाउसिंग सुलभ बनाना था. मूल रूप से 1985 में 'इंदिरा आवास योजना' के रूप में शुरू की गई यह स्कीम 2016 में वर्तमान सरकार द्वारा अपने 'सभी के लिए आवास (हाउसिंग फॉर ऑल)' के विज़न को साकार करने के लिए पीएमएवाय के रूप में फिर से शुरू की गई'.

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण (पीएमएवाय-जी) का उद्देश्य सभी पात्र ग्रामीण घरों में पानी, बिजली और स्वच्छता की बुनियादी सुविधाओं के साथ पक्के घरों का निर्माण करना है. लाभार्थी इस ग्रामीण हाउसिंग स्कीम के तहत विभिन्न लाभ और सब्सिडी प्राप्त कर सकते हैं. यह जानकारी पीएमएवाय ग्रामीण लिस्ट पर उपलब्ध है.

पीएमएवाय ग्रामीण की विशेषताएं

पीएमएवाय जी स्कीम की कई प्रमुख विशेषताएं हैं. ये हैं:

  • Housing for all

    हाउसिंग फोर ऑल

    सरकार ने दो चरणों में 31 मार्च 2024 तक 2.9 करोड़ पक्की हाउसिंग यूनिट बनाने का लक्ष्य पूरा करने की योजना बनाई है. पहला चरण पूरा हो गया है, जबकि दूसरा चरण वर्तमान में चल रहा है.

  • Monetary aid

    आर्थिक सहायता

    पीएमएवाय ग्रामीण के तहत, मैदानी क्षेत्रों में रु. 1.2 लाख तक और पहाड़ी क्षेत्रों, उत्तर-पूर्वी राज्यों और कुछ अन्य क्षेत्रों में रु. 1.3 लाख तक की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है.

  • Cost sharing

    लागत शेयरिंग

    आवश्यक हाउसिंग यूनिट बनाने की लागत केंद्र और राज्य सरकारों के बीच 60:40 के अनुपात में साझा की जाती है. पूर्वोत्तर के राज्यों और जम्मू और कश्मीर जैसे पहाड़ी क्षेत्रों में, यह अनुपात 90:10 होता है.

  • Assistance for toilets

    शौचालयों के लिए सहायता

    स्वच्छ भारत मिशन या किसी अन्य स्कीम के माध्यम से शौचालय बनाने के लिए लाभार्थी रु. 12,000 की सहायता प्राप्त कर सकते हैं.

  • Employment benefits

    रोजगार लाभ

    कम लागत वाली हाउसिंग आवश्यकताओं को पूरा करने के अलावा, पीएम आवास योजना लाभार्थियों को मनरेगा के तहत 90-95 दिनों का रोजगार प्रदान करती है.

  • Housing unit size

    हाउसिंग यूनिट का साइज़

    घरों की न्यूनतम साइज़ या एरिया 20 वर्ग मीटर से बढ़ाकर 25 वर्ग मीटर कर दिया गया है.

  • Borrowing facility

    उधार लेने की सुविधा

    किसी भी अधिकृत फाइनेंशियल संस्थान से रु. 70,000 तक के होम लोन का लाभ उठाया जा सकता है.

  • House design

    घर की डिजाइन

    लाभार्थी टोपोग्राफी, जलवायु, संस्कृति और अन्य हाउसिंग प्रैक्टिस के आधार पर अपने घर का डिज़ाइन चुन सकते हैं.

पूरे किए गए प्रोजेक्ट की राज्यवार नई पीएमएवाय ग्रामीण लिस्ट:

यहां प्रत्येक राज्य और केंद्रशासित प्रदेश के लिए आवंटित हाउसिंग यूनिट की एक कॉम्प्रीहेंसिव लिस्ट दी गई है; और अब तक पूरी की गई यूनिट की संख्या है.

राज्य/केंद्रशासित प्रदेश

टारगेट

पूरा किया गया

पूरे होने का %

आंध्र प्रदेश

1,71,000

46,718

27.33%

अरुणांचल प्रदेश

18,721

209

1.12%

असम

5,16,000

2,30,000

44.67%

बिहार

21,89,000

8,82,000

40.3%

छत्तीसगढ़

9,39,000

7,39,000

78.72%

गुजरात

3,35,000

2,03,000

60.48%

गोवा

427

25

5.85%

झारखंड

8,51,000

5,73,000

67.35%

जम्मू और कश्मीर

1,02,000

21,190

20.83%

केरल

42,431

16,635

39.2%

कर्नाटक

2,31,000

79,547

37.38%

महाराष्ट्र

8,04,000

4,03,000

50.13%

मध्य प्रदेश

22,36,000

15,24,000

68.15%

मिजोरम

8,100

2,526

31.19%

मेघालय

37,945

15,873

41.83%

मणिपुर

18,640

8,496

45.58%

नागालैंड

14,381

1,483

10.31%

ओडिशा

17,33,022

10,96,413

63.27%

पंजाब

24,000

13,623

56.76%

राजस्थान

11,37,907

7,43,072

65.3%

सिक्किम

1,079

1,045

96.85%

त्रिपुरा

53,827

26,220

48.71%

तमिलनाडु

5,27,552

2,19,182

41.55%

उत्तराखंड

12,666

12,354

97.57%

उत्तर प्रदेश

14,62,000

13,90,000

95.04%

पश्चिम बंगाल

24,81,000

14,22,000

57.33%

अंडमान और निकोबार

1,372

273

19.9%

दमन और दीव

15

13

86.67%

दादर और नगर हवेली

7,605

411

5.4%

लक्षद्वीप

115

3

2.61%

पुदुच्चेरी

0

0

0%


पीएमएवाय-जी के लिए ऑनलाइन अप्लाई करना बेहद सुविधाजनक और आसान है. पीएमएवाय का लाभ प्राप्त करने के इच्छुक लोग वेबसाइट पर सभी आवश्यक जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं और आवश्यक डॉक्यूमेंटेशन के साथ अपनी पात्रता चेक कर सकते हैं. पोर्टल पर पीएमएवाय लाभार्थी का स्टेटस भी आसानी से ट्रैक किया जा सकता है. बस ग्रामीण हाउसिंग स्कीम के विभिन्न पहलुओं का ध्यान रखें और आपके लिए यह प्रोसेस बहुत आसान हो जाएगी.

मैं पीएमएवाय ग्रामीण ऑनलाइन 2022 के लिए कैसे अप्लाई करूं?

इच्छुक उम्मीदवार इन आसान चरणों का पालन करके पीएमएवाय के लिए अप्लाई कर सकते हैं, लाभार्थी के नाम जोड़ सकते हैं या रजिस्टर कर सकते हैं:

  1. 1 आधिकारिक पीएमएवाय वेबसाइट पर जाएं
  2. 2 आवश्यक पर्सनल विवरण टाइप करें - लिंग, मोबाइल नंबर, आधार नंबर आदि
  3. 3 'खोजें/सर्च करें' बटन पर क्लिक करें और लाभार्थी का नाम, पीएमएवाय आईडी और प्राथमिकता खोजें
  4. 4 'रजिस्टर करने के लिए चुनें' पर क्लिक करें'
  5. 5 लाभार्थी का विवरण, मनरेगा जॉब कार्ड नंबर और स्वच्छ भारत मिशन नंबर दर्ज करें
  6. 6 अपना रजिस्ट्रेशन नंबर जनरेट करने के लिए 'सबमिट करें' पर क्लिक करें

पीएमएवाय-जी स्कीम के तहत लाभार्थी

पीएमएवाय जी की लिस्ट में शामिल होने के लिए लाभार्थियों को कुछ सामाजिक-आर्थिक कारकों को पूरा करना होता है, जो प्राथमिकता निर्धारित करते हैं. इनमें शामिल हैं:

  • परिवार में 16 से 59 वर्ष की आयु का कोई भी वयस्क मेंबर नहीं होना
  • 25 वर्ष से अधिक आयु का कोई साक्षर मेंबर नहीं होना
  • परिवार का नेतृत्व महिला कर रही हो और 16 से 59 वर्ष की आयु के बीच का कोई वयस्क मेंबर न हो
  • विकलांग मेंबर वाले परिवार और कोई सक्षम वयस्क नहीं हो
  • ऐसे परिवार, जिनके पास कोई जमीन/घर नहीं है और अधिकतर अनौपचारिक मजदूरी के माध्यम से कमाते हैं
  • परिवार में पति/पत्नी और अविवाहित बच्चे शामिल हैं

पीएमएवायजी लाभार्थी लिस्ट क्या है?

पीएमएवायजी लाभार्थी लिस्ट, पीएमएवाय ग्रामीण के लिए पात्र आय के आधार पर कैटेगरी की पूरी लिस्ट है. ये कैटेगरी निम्न हैं:
  • रु. 3 लाख तक की आय वाले आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) के परिवार
  • अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति
  • रु. 3 लाख से रु. 6 लाख तक की आय वाले कम इनकम ग्रुप (एलआईजी) परिवार
  • रु. 6 लाख से रु. 18 लाख के बीच के सेलरी स्केल वाले मध्यम आय वर्ग (एमआईजी) परिवार

पीएमएवाय ग्रामीण लिस्ट के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

पीएम आवास योजना ग्रामीण लिस्ट कैसे चेक करें?

पीएमएवाय जी के तहत रजिस्टर्ड एप्लीकेंट निम्नलिखित तरीकों से रजिस्ट्रेशन नंबर के साथ या उसके बिना पीएमएवाय ग्रामीण लिस्ट में आसानी से अपना नाम ऑनलाइन चेक कर सकते हैं:

चरण 1: आधिकारिक पीएमएवाय-जी वेबसाइट पर जाएं
चरण 2: होमपेज मेनू बार पर 'स्टेकहोल्डर्स' विकल्प पर स्क्रॉल करें
चरण 3: एक ड्रॉप-डाउन मेनू दिखाई देगा. 'आईएवाय/ पीएमएवायजी लाभार्थी' पर क्लिक करें

A) रजिस्ट्रेशन नंबर के साथ

अगर आप अपने रजिस्ट्रेशन नंबर से लाभार्थी की लिस्ट चेक करना चाहते हैं, तो खाली फील्ड में रजिस्ट्रेशन नंबर टाइप करें और 'सबमिट करें' पर क्लिक करें'. अगर आपका नाम पीएमएवाय ग्रामीण लिस्ट में दिखाई देता है, तो आप संबंधित विवरण सत्यापित कर सकते हैं.

B) रजिस्ट्रेशन नंबर के बिना

अगर आप रजिस्ट्रेशन नंबर के बिना लाभार्थी की लिस्ट चेक करना चाहते हैं, तो इन चरणों का पालन करें:

  • पेज के नीचे दाएं ओर दिए गए 'एडवांस्ड सर्च' विकल्प पर क्लिक करें
  • निर्दिष्ट विवरण भरें - राज्य, जिला, ब्लॉक, पंचायत आदि
  • आगे बढ़ने के लिए इनमें से कोई भी विवरण प्रदान करें - नाम, बीपीएल नंबर के साथ अकाउंट नंबर, सैंक्शन ऑर्डर, पिता/पति का नाम
  • लिस्ट में अपना नाम खोजने के लिए 'खोजें/सर्च' पर क्लिक करें
मुझे पीएमएवाय ग्रामीण लिस्ट कैसे मिलेगी?

चरण 1: पीएमएवाय ऑफिशियल पर जाएं पोर्टल
चरण 2: होम पेज पर 'आवाससॉफ्ट (Awaassoft)' के अंतर्गत 'रिपोर्ट' पर क्लिक करें
चरण 3: अब, 'सोशल ऑडिट रिपोर्ट' पर जाएं'
चरण 4: सत्यापन के लिए 'लाभार्थी विवरण' पर क्लिक करें
चरण 5: 'चयन फ़िल्टर' के तहत आवश्यक फील्ड चुनें'. वर्ष, स्कीम, राज्य, जिला, ब्लॉक और पंचायत चुनें.
चरण 6: कैप्चा कोड दर्ज करें. 'सबमिट करें' पर क्लिक करें'

पीएमएवाय जी लिस्ट स्क्रीन पर दिखाई जाएगी. यह लिस्ट एक्सेल या पीडीएफ फॉर्मेट में डाउनलोड की जा सकती है.

क्या पीएमएवाय ग्रामीण स्कीम को बढ़ाया गया है?

सरकार ने मार्च 31, 2024 तक दो और वर्षों के लिए पीएमएवाय-जी या पीएमएवाय-आर स्कीम को बढ़ा दिया है. 2.95 करोड़ पक्की यूनिट के आधिकारिक टारगेट को प्राप्त करने के लिए बचे हुए 1.3 करोड़ घरों का निर्माण पूरा करने के लिए फाइनेंशियल सहायता प्रदान की गई है. नवंबर 2021 तक 1.65 करोड़ पीएमएवाय-जी घर बनाए गए हैं.

पीएमएवाय ग्रामीण की कुल राशि क्या है?

पीएमएवाय ग्रामीण के लिए केंद्र सरकार द्वारा रु. 2,17,257 करोड़ की कुल फंडिंग अप्रूव की गई है - केंद्र का अनुमानित शेयर रु. 1,25,106 करोड़ है, जबकि राज्य का शेयर रु. 73,475 करोड़ है.

अधिक पढ़ें कम पढ़ें