Home Loan EMI Payment

होम लोन पर ब्याज़ की गणना कैसे करें?

कृपया अपना पूरा नाम दर्ज़ करें
अपना पूरा नाम दर्ज करें
कृपया अपना 10-अंकों का मोबाइल नंबर दर्ज़ करें
मोबाइल नंबर का स्थान खाली नहीं छोड़ा जा सकता
कृपया अपने आवासीय एड्रेस का पिन कोड दर्ज़ करें
पिन कोड का स्थान खाली नहीं रह सकता
शून्य
शून्य

मैं बजाज फिनसर्व के प्रतिनिधियों को इस एप्लीकेशन और अन्य प्रॉडक्ट/सेवाओं के लिए कॉल/SMS करने के लिए अधिकृत करता/करती हूं. इस सहमति से DNC/NDNC के लिए किया गया मेरा रजिस्ट्रेशन कैंसल हो जाएगा. नियम व शर्तें लागू

कृपया नियम व शर्तें स्वीकार करें
आपके मोबाइल नंबर पर एक OTP भेज दिया गया है

वन टाइम पासवर्ड दर्ज़ करें

0 सेकेंड
गलत मोबाइल नंबर दर्ज़ किया है?
शून्य
निवल मासिक सेलरी दर्ज़ करें
निवल मासिक सेलरी का स्थान खाली नहीं रह सकता
कृपया आवश्यक लोन राशि दर्ज़ करें
शून्य
शून्य
कृपया प्रॉपर्टी की लोकेशन चुनें
शून्य
जन्मतिथि चुनें
अपनी जन्मतिथि चुनें
PAN कार्ड के विवरण दर्ज़ करें
PAN कार्ड का स्थान खाली नहीं रह सकता
लिस्ट में से नियोक्ता का नाम चुनें
व्यक्तिगत ईमेल एड्रेस दर्ज़ करें
पर्सनल ईमेल का स्थान खाली नहीं रह सकता
ऑफिसियल ईमेल एड्रेस दर्ज़ करें
आधिकारिक ईमेल ID का स्थान खाली नहीं रह सकता है
मौजूदा मासिक देनदारियों को दर्ज़ करें
शून्य
शून्य
शून्य
शून्य
शून्य
बिज़नेस विंटेज की वैल्यू चुनें
अपनी मासिक सेलरी दर्ज़ करें
निवल मासिक सेलरी का स्थान खाली नहीं रह सकता
शून्य
कृपया आवश्यक लोन राशि दर्ज़ करें
शून्य
कृपया बैलेंस ट्रांसफर के लिए बैंक चुनें
शून्य
शून्य
प्रॉपर्टी की लोकेशन चुनें
सालाना कारोबार दर्ज़ करें (18-19)
अपना वार्षिक टर्नओवर 17-18 दर्ज करें

धन्यवाद!

होम लोन पर ब्याज़ की गणना कैसे करें?

आपकी होम लोन ब्याज़ दर, सीधे इन बातों को प्रभावित करती है कि लोन कितना किफायती है और आप कितनी आसानी से इसका भुगतान कर सकते हैं. आपका पुनर्भुगतान EMI के रूप में होता है, जिसमें ब्याज़ और मूलधन, दोनों शामिल होते हैं. कम ब्याज़ दर वाला होम लोन आपकी EMI को कम करता है. इसलिए, होम लोन की ब्याज़ दर में कमी वाले लेंडर को चुनना बेहतर होता है. अपनी एप्लीकेशन को सौंपने से पहले अपने होम लोन की ब्याज़ दर को कैलकुलेट करें.

भारत में होम लोन के ब्याज़ की गणना कैसे की जाती है?

भारत में, होम लोन दो प्रकार की ब्याज़ दरों के साथ आते हैं: फिक्स्ड और फ्लोटिंग. जैसा कि नाम से पता चलता है, जब आप एक निश्चित ब्याज़ वाले होम लोन को चुनते हैं, तो ब्याज़, लोन की अवधि के दौरान एक समान बना रहता है. दूसरी तरफ, जब आप फ्लोटिंग ब्याज़ दर को चुनते हैं तो यह समय समय पर बदलती रहती है. किसी भी प्रकार की ब्याज़ दर का मान तय करने के लिए कई कारकों को विचार में लिया जाता है.

 

कुछ कारक जो होम लोन की ब्याज़ दर को प्रभावित करते हैं, नीचे दिए गए हैं:
RBI पॉलिसी: RBI पॉलिसी में किसी प्रकार का बदलाव आपके होम लोन की ब्याज़ दर में बदलाव लाएगा. उदाहरण के लिए, MCLR सिस्टम के हालिया परिचय के बाद, अब आप एक तिथि (आमतौर पर प्रत्येक 6 महीने या एक वर्ष) निर्धारित कर सकते हैं, जिस पर आपकी ब्याज़ दर दोबारा व्यवस्थित हो जाएगी. इससे ब्याज़ दरों के गिरने पर आपको तुरंत लाभ मिलता है.

क्रेडिट रेटिंग: आपकी क्रेडिट रेटिंग आपकी साख तय करती है. अगर आप का स्कोर अच्छा है, तो आपको पात्र माना जाता है, और हो सकता है कि आपको कम ब्याज़ दरों पर लोन दे दिया जाए. इसी प्रकार से, अगर आपका क्रेडिट स्कोर कम है, तो आपको अधिक जोखिम वाला कस्टमर माना जाता है और इस कारण से लोन लेने के लिए आपको ब्याज़ की उच्च दरें देनी पड़ सकती हैं.

पैसे की सप्लाई: जब फाइनेंशियल संस्थानों के पास उधार देने के लिए अधिक पैसा होता है, जैसा कि डीमोनेटाइज़ेशन के बाद था, वह हाउसिंग लोन के लिए कम ब्याज़ दरों की पेशकश कर सकते हैं. हालांकि, अगर अर्थव्यवस्था में पैसों की कमी है, तो वह मंज़ूरी पर ब्याज़ की उच्च दर ले सकते हैं. साथ ही, जब लोन की मांग ज़्यादा होती है, तब ब्याज़ दरें भी ज़्यादा होती हैं, और इसके उलट जब लोन की मांग कम होती है, तब ब्याज़ दरें भी कम हो जाती है.

अपने हाउसिंग लोन ब्याज़ दर की गणना कैसे करें?

अपने लोन की ब्याज़ दर की गणना करने के लिए आप इस आसान फॉर्मूले का उपयोग कर सकते हैं.
EMI= [P x R x (1+R)/\N]/ [(1+R)/\N-1]
इस फॉर्मूले में 'P' मूलधन को दर्शाता है, N मासिक किश्तों की संख्या है और R मासिक आधार पर ब्याज़ की दर है. इसकी गणना खुद से करने में आपको परेशानी आ सकती है और उसमे गलती की संभावनाएं भी हो सकती हैं, इसलिए आप होम लोन इंटरेस्ट कैलकुलेटर का उपयोग करके अपने होम लोन की ब्याज़ दर की गणना आसानी से कर सकते हैं.

बजाज फिनसर्व सहित अधिकांश लेंडर, अपनी वेबसाइट पर होम लोन EMI कैलकुलेटर प्रदान करते हैं. इस आसान टूल में आप मूलधन, ब्याज़ दर और अवधि दर्ज कर सकते हैं. आप इन राशियों को एडजस्ट कर सकते हैं और अपनी EMI की वैल्यू देख सकते हैं. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि, आप यह देख सकते हैं कि कुल कितना ब्याज़ चुकाना है और कुल कितनी राशि का पुनर्भुगतान ( मूलधन और ब्याज़) करना है.

साथ ही, आप अवधि को कम करके यह देख सकते हैं कि आप थोड़ी ज़्यादा EMI चुका कर अपने होम लोन पर कम ब्याज़ का भुगतान कैसे कर सकते हैं. उदाहरण के लिए, अगर आपने रु. 20 लाख का लोन 115 महीनों के लिए 11% ब्याज़ दर पर लिया है, तो प्रत्येक EMI रु. 28,212 की होगी और कुल देय ब्याज़ रु. 12,44,389 होगा.
दूसरी तरफ, अगर आप सभी वैल्यू समान रखते हैं लेकिन अवधि को घटा कर 100 महीने कर देते हैं, तो आप की EMI ₹30,633 हो जाएगी और आपसे लिया जाने वाला कुल ब्याज़ कम होकर रु. 10,63,350 हो जाएगा.

यहां होम लोन ब्याज़ कैलकुलेटर का उपयोग करने के लाभों की जानकारी दी गई है.
• यह आपके होम लोन पर कितना ब्याज़ लगा है यह देखने में मदद करता है.
• यह आपको अपने लोन के लिए सही अवधि चुनने में मदद करता है.
• यह दर्शाता है कि लोन किफायती है या नहीं.
• यह आपकी घर खरीदने के लिए बजट का निर्णय लेने में मदद करता है.
• यह सटीक और त्रुटि मुक्त परिणाम प्रदान करता है.

इस जानकारी के साथ, आप न केवल अपने होम लोन के ब्याज़ की गणना करने के बारे में जानेंगे साथ ही आप उन कारकों को भी समझ सकेंगे जिनसे ब्याज़ दर प्रभावित होती है, और अपने होम लोन एप्लीकेशन को सही ढंग से पूरा कर पाएंगे.