MSME क्या है?

2 मिनट का आर्टिकल

भारत सरकार द्वारा अधिनियमित सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विकास (एमएसएमईडी) अधिनियम, 2006 के अनुसार, एमएसएमई की परिभाषा में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम शामिल हैं.

एमएसएमई के तहत किस प्रकार का बिज़नेस आता है?

  1. निर्माण क्षेत्र की कंपनियां
    उद्योग (विकास और विनियमन) अधिनियम, 1951 की पहली अनुसूची में सूचीबद्ध उद्योग के तहत, सामान के निर्माण या उत्पादन में शामिल उद्यमों को एमएसएमई के दायरे में शामिल किया जाता है.
    ऐसे एंटरप्राइज जो फिनिश्ड प्रॉडक्ट को और बेहतर बनाने के लिए प्लांट और मशीनरी का उपयोग करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप उन्हें एक विशेष नाम, उपयोग या विशेषता मिलती है, माइक्रो, स्मॉल और मीडियम एंटरप्राइज के दायरे में आते हैं.
     
  2. सर्विस सेक्टर की कंपनियां
    एमएसएमई सेवा क्षेत्र में उद्यमों को भी बढ़ाता है. उद्यमों को उनके वार्षिक टर्नओवर और संयंत्र/मशीनरी/उपकरणों में निवेश के आधार पर निम्नलिखित उप-श्रेणियों के तहत वर्गीकृत किया जाता है, चाहे वे निर्माण या सेवा क्षेत्र से संबंधित हों.

माइक्रो

स्मॉल

मध्यम

इन्वेस्टमेंट रु. 1 करोड़ से अधिक नहीं और रु. 5 करोड़ तक का टर्नओवर

रु. 10 करोड़ से अधिक का इन्वेस्टमेंट और टर्नओवर रु. 50 करोड़ से अधिक नहीं है

रु. 50 करोड़ से अधिक का इन्वेस्टमेंट और रु. 250 करोड़ तक का टर्नओवर

अगर आप एमएसएमई चलाते हैं और बिज़नेस को बढ़ाने और उसका विस्तार करने के लिए आपको फंडिंग की आवश्यकता है, तो बजाज फिनसर्व से एमएसएमई लोन जैसे हाई-वैल्यू वाले फंडिंग विकल्पों का लाभ लें. ये लोन आसान पात्रता शर्तों पर उपलब्ध हैं और इसके लिए न्यूनतम डॉक्यूमेंटेशन की आवश्यकता होती है. रु. 50 लाख* (*जिसमें इंश्योरेंस प्रीमियम, वीएएस शुल्क, डॉक्यूमेंटेशन शुल्क, फ्लेक्सी फीस और प्रोसेसिंग फीस सभी कुछ शामिल होता है) तक का एमएसएमई लोन लेकर इन्फ्रास्ट्रक्चर में सुधार, कार्यशील पूंजी को बढ़ाने, प्लांट और मशीनरी इंस्टॉलेशन करने आदि जैसी बिज़नेस की आवश्यकताओं को पूरा करें.

अधिक पढ़ें कम पढ़ें