फोटो

> >

कार्यशील पूंजी नीतियों के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

तुरंत अप्लाई करें

मात्र 60 सेकेंड
में अप्लाई करें

कृपया अपना प्रथम और अंतिम नाम दर्ज़ करें
कृपया 10 अंकों का मोबाइल नंबर दर्ज़ करें
कृपया अपनी जन्मतिथि दर्ज़ करें
कृपया मान्य PAN कार्ड नंबर दर्ज़ करें
कृपया अपना पिन कोड दर्ज़ करें
कृपया अपनी पर्सनल ईमेल ID दर्ज़ करें

मैं बजाज फिनसर्व के प्रतिनिधि को इस एप्लीकेशन और दूसरे प्रॉडक्ट/सर्विसेज़ हेतु कॉल/SMS करने के लिए अधिकृत करता/करती हूं. इस सहमति से DNC/NDNC के लिए किया गया मेरा रजिस्ट्रेशन कैंसल हो जाएगा. नियम व शर्तें.

धन्यवाद!

कार्यशील पूंजी नीतियों के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

कार्यशील पूंजी की गणना और प्रबंधन करते समय कुछ पॉलिसी में जरूर इन्वेस्ट करना चाहिए. सबसे अधिक पसंद की जाने वाली कार्यशील पूंजी पॉलिसी निम्न हैं:

1. एग्रेसिव पॉलिसी
यह पॉलिसी, जैसा कि नाम से पता चलता है, उच्च जोखिम वाली पॉलिसी है. जोखिम होने के कारण, रिटर्न भी अधिक होता है. इसका पालन करने के लिए, किसी बिज़नेस को अपने मौज़ूदा एसेट या उसके बकाया क़र्ज़ की राशि को कम करना चाहिए.

यहां, अब कोई डेब्टर नहीं हैं- तो भुगतान समय पर एकत्र किए जाते हैं और अंततः बिज़नेस में इन्वेस्ट कर दिए जाते हैं. लेनदारों को भुगतान करने में अधिकतम संभव देरी की जाती है. ऐसा करने से, कभी-कभी कंपनी को अपना क़र्ज़ चुकाने के लिए असेट्स बेचने के लिए मजबूर होना पड़ सकता है.

इस प्रकार की कार्यशील पूंजी पॉलिसी का अनुसरण ज्यादातर कंपनियां तेज वृद्धि के लिए करती हैं.

2. कंज़रवेटिव पॉलिसी
आमतौर पर कम जोखिम लेने वाले बिज़नेस ऐसी पॉलिसी के प्रति झुकाव रखते हैं. इस पॉलिसी में, एक विशिष्ट राशि तक की क्रेडिट लिमिट पहले से निर्धारित की जाती है. इसके अलावा, ऐसी पॉलिसीज किसी भी ऐसे डेब्टर, जो पहले डिफॉल्टर रह चुका है, के साथ क्रेडिट पर बिज़नेस करने से बचती हैं.

आम तौर पर, परम्परागत रूप से कार्यशील पूंजी पॉलिसी का पालन कंपनी के एसेट और देनदारियों के बीच सामंजस्य बनाए रखने के लिए किया जाता है, ताकि अचानक ज़रूरत पड़ने पर एसेट के मूल्य संतुलित रहें.

3. मैचिंग पॉलिसी
यह कार्यशील पूंजी प्रबंधन पॉलिसी और कार्यशील पूंजी फाइनेंसिंग पॉलिसी के बीच एक हाइब्रिड है.

बिज़नेस आमतौर पर इस पॉलिसी का पालन करते हैं कि, उनकी कार्यशील पूंजी कम हो; ताकि वे धन का अन्यत्र उपयोग या इन्वेस्टमेंट कर सकें.

यहां, बैलेंस शीट में करंट असेट्स को करंट देयता के समान रखने का प्रयास किया जाता है और कैश इन हैंड कम रखा जाता है. इस कारण से, बचे हुए फाइनेंस को बिज़नेस के विस्तार, प्रॉडक्शन के पैमाने को बढ़ाने, आदि के लिए काम में लिया जा सकता है.

बेहतर कार्यशील पूंजी फाइनेंसिंग पॉलिसी एक फर्म को अपनी आवश्यकताओं के अनुसार कार्यशील पूंजी लोन का चयन करने में सक्षम बनाती है.

अन्य लोकप्रिय प्रॉडक्ट के बारे में जानें

महिलाओं के लिए बिज़नेस लोन के बारे में लोगों की समझ

महिलाओं के लिए बिज़नेस लोन

कस्टमाइज़्ड लोन प्राप्त करें
रु. 30 लाख तक | न्यूनतम डॉक्यूमेंटेशन

अधिक जानें
sme- msme के लिए बिज़नेस लोन के बारे में लोगों की समझ

SME-MSME के लिए बिज़नेस लोन

आपके एंटरप्राइज़ के लिए आसान फाइनेंस
रु. 30 लाख तक | 24 घंटे में अप्रूवल

अधिक जानें
वर्किंग केपिटल लोन के बारे में लोगों की समझ

कार्यशील पूंजी

ऑपरेशनल खर्चों का संचालन करें
रु. 30 लाख तक | सुविधाजनक अवधि के विकल्प

अधिक जानें
मशीनरी लोन के बारे में लोगों की समझ

मशीनरी लोन

मशीनरी को अपग्रेड करने के लिए लोन
रु. 30 लाख तक | EMI के रूप में केवल ब्याज़ का भुगतान करें

अधिक जानें