2 मिनट का आर्टिकल
25 मई 2021

डीमैट अकाउंट खोलना आसान है और यह प्रोसेस बस कुछ ही चरणों में पूरी की जा सकती है ऑनलाइन ट्रेड करते समय डीमैट अकाउंट शेयरों को डिजिटल रूप से स्टोर करता है चूंकि आजकल शेयर्स डिजिटल मोड में ट्रेड किए जाते हैं, इसलिए ऑनलाइन ट्रेडिंग शुरू करने के लिए डीमैट अकाउंट आवश्यक है इसलिए, एक इन्वेस्टर के रूप में आपको यह जानना आवश्यक है कि डीमैट अकाउंट कैसे खोलना है और पैसा बनाने तथा बढ़ाने के लिए इसका इस्तेमाल कैसे करना है इंटरनेट की सुविधा के कारण अब घर बैठे कुछ ही क्लिक में डीमैट अकाउंट खोलना संभव है.

डीमैट अकाउंट क्या है और यह कैसे काम करता है?

1996 से पहले, ट्रेडिंग फिजिकल रूप से होती थी. हालांकि, सेबी द्वारा डीमैट अकाउंट की शुरुआत के साथ ही इसने लोगों के इन्वेस्ट करने के तरीके में व्यापक बदलाव ला दिया - यह एक डिजिटल प्रोसेस बन गया. डीमैट अकाउंट जारी करने का निर्णय भारत में सिक्योरिटीज़ एक्सचेंज बोर्ड द्वारा लिया गया एक सबसे साहसिक निर्णय साबित हुआ, और इसके कारण, आम आदमी के लिए स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करना बहुत आसान हो गया.

डीमैट अकाउंट, जिसे अक्सर डिमटेरियलाइज़्ड अकाउंट कहा जाता है, स्टॉक मार्केट में ट्रेड करने की एक महत्वपूर्ण आवश्यकता है. डीमैट अकाउंट का उद्देश्य आपके द्वारा खरीदे गए शेयर्स को इलेक्ट्रॉनिक रूप से स्टोर करना है. आप अपने डीमैट अकाउंट में कई सिक्योरिटीज़ जैसे स्टॉक, ईटीएफ, बॉन्ड और म्यूचुअल फंड आदि को होल्ड कर सकते हैं.

जैसा कि नाम से पता चलता है, डीमैट अकाउंट का उपयोग सिक्योरिटीज़ और शेयर्स के डिजिटल फॉर्म में इन्वेस्ट करने के लिए किया जाता है चूंकि कोई इन्वेस्टर अपने डीमैट अकाउंट को कहीं से भी एक्सेस कर सकता है, इसलिए यह एक सुविधाजनक एक्सेस सुनिश्चित करता है डीमैट अकाउंट के साथ, फिज़िकल शेयर सर्टिफिकेट डिजिटल फॉर्मेट में बदल जाते हैं, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि अकाउंट होल्डर जब चाहे तब उन्हें एक्सेस कर सके.

डीमैट अकाउंट खोलने की चरण-दर-चरण प्रक्रिया

आप अपने घर से बाहर निकले बिना भी डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं. पूरी प्रोसेस डिजिटल है और केवल एक मोबाइल फोन के साथ 10-15 मिनट से कम समय में पूरी की जा सकती है. नीचे दिए गए चरण डीमैट अकाउंट खोलने में आपकी मदद करेंगे:

  • चरण एक: डिपॉजिटरी प्रतिभागी के लिए खोजें
    एक डीपी चुनें, जिसके साथ आप अपना डीमैट अकाउंट खोलना चाहते हैं. डीपी की साख पर विचार करें और साथ ही यह भी देखें कि क्या यह आपको वे विशिष्ट सेवाएं प्रदान कर सकता है जिनकी आपको आवश्यकता है
  • चरण दो: बुनियादी विवरण प्रदान करें
    डीपी चुनने के बाद, आगे यह भरें ऑनलाइन अकाउंट ओपनिंग डीपी की वेबसाइट पर फॉर्म. शुरुआत में आपको अपना नाम, फोन नंबर, ईमेल, एड्रेस आदि जैसे बुनियादी विवरण प्रदान करने होंगे. आपको अपने पैन कार्ड का विवरण भी जोड़ना होगा
  • चरण तीन: बैंक का विवरण जोड़ें
    आपको अकाउंट नंबर, अकाउंट का प्रकार, आईएफएससी कोड आदि जैसे बैंक विवरण जोड़ना आवश्यक है. बैंक अकाउंट जोड़ना आवश्यक है क्योंकि इसका उपयोग डिविडेंड, ब्याज़ आदि जैसी किसी भी राशि को जमा करने के लिए किया जाता है जो उस जारीकर्ता कंपनी द्वारा दिए जाते हैं जिनके शेयर आपके डीमैट अकाउंट में होल्ड किए गए हैं
  • चरण चार: डॉक्यूमेंट अपलोड करें
    इस चरण को पूरा करने के लिए अपनी फोटो, और अपने एड्रेस के प्रमाण और पहचान के प्रमाण से संबंधित डॉक्यूमेंट अपलोड करें
  • चरण पांच: इन-पर्सन सत्यापन
    चूंकि पूरी प्रोसेस डिजिटाइज़ हो गई है, इसलिए आप घर बैठे सत्यापन कर सकते हैं. डीपी की ओर से आने वाले एजेंट की प्रतीक्षा करने और अपनी पहचान को कन्फर्म करने की आवश्यकता नहीं है. बस अपना एक छोटा सा वीडियो रिकॉर्ड करें, दी गई स्क्रिप्ट (अपना नाम, पैन नंबर, एड्रेस आदि) पढ़ें और चरण पूरा करने के लिए इसे सबमिट करें
  • चरण छह: ई-हस्ताक्षर
    अधिकांश डीपी आपको आधार से लिंक किए गए मोबाइल नंबर का उपयोग करके डिजिटल रूप से आपकी एप्लीकेशन पर हस्ताक्षर करने का विकल्प प्रदान करेंगे. यह एक सुविधाजनक और सुरक्षित तरीका है और पेपरवर्क को कम करता है
  • चरण सात: फॉर्म जमा करना
    इन चरणों को पूरा करने के बाद, आप अपना फॉर्म सबमिट कर सकते हैं और आपका डीमैट अकाउंट जल्द ही बना दिया जाएगा. आपको डीमैट अकाउंट नंबर और अपने अकाउंट को एक्सेस करने के लिए लॉग-इन क्रेडेंशियल जैसे अपने अकाउंट के विवरण मिलेंगे

डीमैट अकाउंट खोलने से संबंधित विभिन्न प्रकार के शुल्क

स्टॉकब्रोकर डीमैट अकाउंट खोलने और संबंधित सेवाओं का लाभ उठाने के लिए शुल्क लगाते हैं स्टॉकब्रोकर के अनुसार यह फीस अलग-अलग होती है. इसलिए, सही स्टॉकब्रोकर चुनना आवश्यक है ताकि आप डीमैट अकाउंट खोलने के लिए न्यूनतम राशि का भुगतान करके भी इस अकाउंट के साथ आने वाली विशेषताओं और लाभों का आनंद ले सकें.

इन शुल्कों को नीचे दिए गए अनुसार व्यापक रूप से वर्गीकृत किया जा सकता है:

  • अकाउंट खोलने के लिए शुल्क: आमतौर पर, पहली बार डीमैट अकाउंट खोलने पर अकाउंट खोलने का शुल्क एक बार लिया जाता है. इसके बाद, स्टॉकब्रोकर आपसे यह शुल्क दोबारा नहीं लेगा.
  • वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क (एएमसी): डीमैट अकाउंट को बनाए रखने के लिए डीपी द्वारा डीमैट अकाउंट होल्डर से वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क लिया जाता है.
  • प्लेजिंग शुल्क: यह ट्रेडिंग लिमिट का लाभ उठाने के लिए डीमैट अकाउंट में सिक्योरिटीज़ गिरवी रखने/प्लेज करने के लिए लिया जाने वाला शुल्क है.
  • अनप्लेजिंग शुल्क: जब प्लेज किए गए शेयर्स को अनप्लेज किया जाता है, तो यह शुल्क लगाया जाता है.
  • डिमटेरियलाइज़ेशन शुल्क: डिमटेरियलाइज़ेशन के माध्यम से फिज़िकल शेयर सर्टिफिकेट को डिजिटल रूप में बदला जा सकता है. इसके लिए डिमटेरियलाइज़ेशन शुल्क लगता है.
  • रिमटेरियलाइज़ेशन शुल्क: यह डिमटेरियलाइज़ेशन के विपरीत होता है, जहां डिजिटल शेयर सर्टिफिकेट को फिज़िकल रूप में बदला जाता है.
  • डीपी शुल्क: जब भी डीमैट अकाउंट से आईएसआईएन डेबिट किया जाता है, तो डीपी शुल्क लगाया जाता है.

कुछ स्टॉकब्रोकर डीमैट अकाउंट खोलने के शुल्क को माफ कर सकते हैं. उदाहरण के लिए, बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ के साथ डीमैट अकाउंट खोलने के शुल्क शून्य हैं. साथ ही विभिन्न सब्सक्रिप्शन पैक उपलब्ध हैं जो इन्वेस्टर को ट्रेडिंग के दौरान विभिन्न ब्रोकरेज दरों को चुनने का विकल्प देते हैं.

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए कौन से डॉक्यूमेंट्स की आवश्यकता होती है?

जब आप स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग शुरू करने और इन्वेस्ट करने का मन बना लेते हैं, तो आपको डीमैट अकाउंट खोलने के फॉर्म के साथ कुछ आवश्यक डॉक्यूमेंट सबमिट करने होते हैं ये डॉक्यूमेंट सेबी द्वारा स्टैंडर्ड और निर्धारित हैं अच्छी खबर यह है कि डीमैट अकाउंट खोलने के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट न्यूनतम हैं और उन्हें एकत्र करने के लिए आपको भागदौड़ करने की आवश्यकता नहीं है इसके परिणामस्वरूप, रिटेल निवेशकों के लिए अकाउंट खोलने का फॉर्म भरना और बिना किसी परेशानी के आवश्यक डॉक्यूमेंट प्रस्तुत करना आसान हो जाता है.

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए आपको नीचे दिए गए डॉक्यूमेंट सबमिट करने होंगे

  1. PAN कार्ड
  2. पासपोर्ट साइज़ फोटो
  3. आपके हस्ताक्षर की एक कॉपी
  4. पहचान का प्रमाण - आपका पैन कार्ड पहचान के प्रमाण के रूप में काम करेगा
  5. एड्रेस प्रूफ - इनमें से कोई भी डॉक्यूमेंट सबमिट किया जा सकता है- आधार आर्ड, वोटर आईडी, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, और/या यूटिलिटी बिल (3 महीने से अधिक पुराना नहीं)
  6. बैंक अकाउंट होने के प्रमाण के रूप में बैंक स्टेटमेंट या अकाउंट पासबुक की कॉपी
  7. कैंसल चेक
  8. अगर आप करेंसी या डेरिवेटिव मार्केट में रुचि रखते हैं, तो आईटी रिटर्न या पेस्लिप

अतिरिक्त जानकारी: ऑनलाइन ट्रेडिंग कैसे शुरू करें

आपको डीमैट अकाउंट क्यों खोलना चाहिए?

अगर कोई व्यक्ति स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करके अपना पैसा इन्वेस्ट करना चाहता है, तो वह तब तक नहीं कर सकता जब तक कि उसके पास डीमैट अकाउंट न हो ऑनलाइन ब्रोकर्स ने रिटेल इन्वेस्टर्स के लिए डीमैट अकाउंट प्राप्त करने की प्रोसेस तेज़ और आसान बना दी है इसलिए, ऑनलाइन डीमैट अकाउंट खोलने के बारे में जानने से केवाईसी आवश्यकताओं को समझने की अनुमति मिलती है, जो सेबी द्वारा अनिवार्य की गई है और सभी स्टॉकब्रोकर को उनका पालन करना होता है. 

आपका डीमैट अकाउंट पहले बताए गए अनुसार, इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में शेयर, बॉन्ड, म्यूचुअल फंड आदि जैसी फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ होल्ड करेगा. सिक्योरिटीज़ को डिजिटल मोड में रखने के अलावा, कुछ अन्य कारण भी हैं जो डीमैट अकाउंट को अधिक महत्वपूर्ण बनाते हैं जैसे:

  1. सुरक्षा/सेफ्टी: पहले, जब शेयर्स फिज़िकल फॉर्म में होते थे तो उन्हें मेंटेन करना बहुत ही मुश्किल होता था. इन्हें रख कर भूल जाने या चोरी हो जाने का जोखिम हमेशा बना रहता था. अब, डीमैट अकाउंट के साथ, कोई भी इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में सिक्योरिटीज़ होल्ड कर सकता है, जो बहुत सुरक्षित है. नियम, विनियम और वैधानिक अनुपालन डीमैट अकाउंट को अधिक सुरक्षित और सेफ विकल्प बनाते हैं.
  2. एक्सेस करने में आसानी: चूंकि, सभी सिक्योरिटीज़ इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में होती हैं, इसलिए कोई भी व्यक्ति उन्हें कहीं से भी एक्सेस कर सकता है.
  3. वन-स्टॉप: इन्वेस्टर विभिन्न प्रकार के फाइनेंशियल प्रॉडक्ट में इन्वेस्ट करता है. इन प्रॉडक्ट के लिए अलग-अलग अकाउंट मेंटेन करना न केवल कंफ्यूजन पैदा करता है बल्कि समय भी लेता है. डीमैट अकाउंट एक ही अकाउंट में इन्वेस्टर को अपनी कई सिक्योरिटीज़ को होल्ड करने और ट्रैकिंग को आसान बनाने में मदद करता है.
  4. ट्रांसफर करने में आसान: जब आप किसी ट्रेड को एक्जीक्यूट करते हैं, तो स्टॉकब्रोकर सिक्योरिटीज़ को सीधे सेलर से बॉयर तक ट्रांसफर कर सकता है. अगर आप किसी नाबालिग के लिए डीमैट अकाउंट मेंटेन कर रहे हैं, तो आप शेयर खरीद सकते हैं और अपने डीमैट अकाउंट से नाबालिग के डीमैट अकाउंट में सुविधाजनक रूप से ट्रांसफर कर सकते हैं.
  5. सिक्योरिटीज़ का आसान डिमटीरियलाइज़ेशन: अगर आपके पास फिज़िकल सर्टिफिकेट हैं, तो आप आसानी से उन्हें अपने डीमैट अकाउंट के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में बदल सकते हैं. आप एक बटन के सरल क्लिक के साथ इलेक्ट्रॉनिक रूप से होल्ड की गई सिक्योरिटीज़ को फिज़िकल रूप में भी बदल सकते हैं.
  6. तुरंत और आसान एक्सेस: डीमैट अकाउंट आपको इंटरनेट का उपयोग करके अपने इन्वेस्टमेंट को आसानी से एक्सेस करने की अनुमति देता है. इसलिए, किसी भी समय, आपको अपने इन्वेस्टमेंट के बारे में पूरी जानकारी होती है और आप वेल्थ बनाने के लिए स्मार्ट निर्णय ले सकते हैं.
  7. डिविडेंड का सुविधाजनक एक्सेस: डीमैट अकाउंट की शुरुआत होने से पहले, डिविडेंड के लिए अनुरोध करना एक बहुत अधिक समय लेने वाली प्रोसेस होती थी. हालांकि, अब डिविडेंड एक इलेक्ट्रॉनिक क्लियरिंग सर्विस का उपयोग करके डीमैट अकाउंट में ऑटोमैटिक रूप से जमा किए जाते हैं. प्रत्येक डीमैट अकाउंट में एक यूनीक आईडी होती है और जब आप शेयर और सिक्योरिटीज़ खरीदते हैं, तो किसी भी प्राप्त डिविडेंड का भुगतान उस आईडी पर किया जाता है.

डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए अभी यहां क्लिक करें!

बीएफएसएल के साथ डीमैट अकाउंट खोलने के लाभ

बीएफएसएल भारत के प्रमुख स्टॉकब्रोकर्स में से एक है. यह एक रजिस्टर्ड स्टॉकब्रोकर है और इन्वेस्टर को नेशनल सिक्योरिटीज़ डिपॉजिटरी लिमिटेड और सेंट्रल डिपॉजिटरीज़ सर्विसेज़ लिमिटेड के बीच चुनने में सक्षम बनाता है और इन्वेस्टर को पारदर्शी ट्रेडिंग अवसर प्रदान करता है. बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ लिमिटेड के साथ डीमैट अकाउंट खोलने पर रिटेल इन्वेस्टर कई लाभ प्राप्त करते हैं.

  • डीमैट अकाउंट खोलने के लिए शून्य शुल्क: बीएफएसएल रिटेल इन्वेस्टर को बिना किसी लागत के डीमैट अकाउंट ऑनलाइन खोलने की सुविधा देता है. उन्हें अपना डीमैट अकाउंट खोलने और मेंटेन करने के लिए कोई शुल्क नहीं देना होगा.
  • मिनटों में ट्रेडिंग शुरू करें: बीएफएसएल के साथ पूरी अकाउंट खोलने की प्रक्रिया में 15 मिनट लगते हैं. अगर आप अपना पैन कार्ड, एड्रेस प्रूफ और बैंक विवरण अपने साथ रखते हैं, तो आप कुछ ही समय में अपना डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं और ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं.
  • विविध इन्वेस्टमेंट पोर्टफोलियो: शेयर और स्टॉक में इन्वेस्ट करने के अलावा, बीएफएसएल के साथ एक डीमैट अकाउंट आपको इक्विटी, म्यूचुअल फंड, आईपीओ और इक्विटी डेरिवेटिव में इन्वेस्ट करने की अनुमति देता है. जब आप अपने इन्वेस्टमेंट पोर्टफोलियो को विविधता प्रदान करते हैं, तो आप न केवल जोखिम को कम करते हैं बल्कि अपना लाभ भी अधिकतम करते हैं.
  • यूज़र-फ्रेंडली ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म: आप देखेंगे कि बीएफएसएल आपको केवल यूज़र-फ्रेंडली ही नहीं बल्कि सुविधाजनक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का एक्सेस देता है. आप iOS या एंड्रॉयड के लिए मोबाइल ऐप का उपयोग करके कभी भी ट्रेड कर सकते हैं.
  • कम ब्रोकरेज शुल्क: बीएफएसएल मार्केट में सबसे कम ब्रोकरेज शुल्क लेकर रिटेल इन्वेस्टर के लाभ को अधिकतम करने में मदद करता है. किफायती कीमत वाले सब्सक्रिप्शन प्लान की मदद से, रिटेल इन्वेस्टर अपने चुने गए प्लान के आधार पर ब्रोकरेज शुल्क में 99% तक की बचत कर सकते हैं.

डीमैट अकाउंट खोलते समय याद रखने योग्य बातें

डीमैट अकाउंट खोलने से पहले, कुछ चीजों पर विचार किया जाना चाहिए. आज लगभग सभी डिस्काउंट स्टॉकब्रोकर डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट एक साथ प्रदान करते हैं, हालांकि, अगर आप ब्रोकर के साथ केवल डीमैट अकाउंट खोल रहे हैं, तो ट्रेडिंग अकाउंट खोलना और इसे अपने डीमैट अकाउंट से लिंक करना भी महत्वपूर्ण है, जिसके माध्यम से आप शेयर खरीद सकेंगे और बेच सकेंगे. अपना डीमैट अकाउंट खोलने के लिए ब्रोकर चुनने से पहले आपको नीचे दिए गए पॉइंट चेक करने चाहिए ताकि आप सही ब्रोकर के साथ डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलें.

  • एक विश्वसनीय ब्रांड नेम: बेहतरीन मार्केट प्रतिष्ठा वाला विश्वसनीय प्लेटफॉर्म चुनना महत्वपूर्ण है. आप जिस प्लेटफॉर्म पर अपना डीमैट अकाउंट खोल रहे हैं, वह सेबी से रजिस्टर्ड प्लेटफॉर्म होना चाहिए. यह एक डिपॉजिटरी प्रतिभागी होना चाहिए और सभी संबंधित सरकारी एजेंसियों द्वारा जारी सभी दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए.
  • एक सेक्योर्ड प्लेटफॉर्म: आपके द्वारा चुना गया प्लेटफॉर्म आपके डीमैट अकाउंट की पूरी सुरक्षा सुनिश्चित करना चाहिए.
  • ब्रोकरेज-फीस: डीमैट अकाउंट खोलने से पहले, कृपया ब्रोकर द्वारा लिए जाने वाले ब्रोकरेज को चेक करें क्योंकि यह वह फीस होती है जो आप लंबे समय तक भरेंगे.
  • उपयोग करने में आसान यूज़र इंटरफेस: एक अच्छा ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म जो अपने आसान यूआई और ऐप के भीतर आसान नेविगेशन के साथ आपके लिए ट्रेडिंग को बहुत ही आसान बना देता है.
  • सहायता और सपोर्ट: अगर आप किसी ट्रेड में अटक रहे हैं और आपको तुरंत सहायता की आवश्यकता है, तो प्लेटफॉर्म में ऐसा करने की क्षमता होनी चाहिए.

डीमैट अकाउंट कैसे खोलें - सामान्य प्रश्न

डीमैट अकाउंट खोलने में कितनी लागत आती है?

कुछ ब्रोकर डीमैट अकाउंट खोलने का शुल्क माफ कर देते हैं. हालांकि, अकाउंट मेंटेनेंस के लिए ब्रोकर द्वारा कुछ शुल्क लगाए जाते हैं ब्रोकरेज शुल्क भी लगाए जाते हैं और ये शुल्क ब्रोकर के अनुसार अलग-अलग होते हैं.

अगर आप बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ से फ्रीडम ट्रेडिंग पैक के लिए साइन-अप करते हैं, तो आप मुफ्त डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं. इस पैक के साथ, पहले वर्ष के लिए डीमैट एएमसी शून्य होती है और दूसरे वर्ष के लिए, यह रु. 365+ जीएसटी है.

मैं मुफ्त में डीमैट अकाउंट कैसे खोल सकता/सकती हूं?

अगर आप बजाज फाइनेंशियल सिक्योरिटीज़ लिमिटेड से फ्रीडम ट्रेडिंग पैक के लिए साइन इन करते हैं, तो आप मुफ्त डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं आप इस प्रोसेस को घर बैठे पेपरलेस तरीके से पूरी कर सकते हैं बुनियादी विवरण भरें और अपना केवाईसी फॉर्म सबमिट करें और बस हो गया ऑनलाइन ट्रेडिंग करने के लिए डीमैट अकाउंट होना आवश्यक है.

डीमैट अकाउंट ऑनलाइन खोलने में कितना समय लगता है?

बजाज फाइनेंशियल सर्विस डीमैट अकाउंट खोलने में आपको 10-15 मिनट का समय लगता है चूंकि डीमैट अकाउंट खोलने की प्रोसेस ऑनलाइन हो सकती है, इसलिए इन्वेस्टर के लिए यह आसान और सुविधाजनक है. यह प्रोसेस पूरी तरह से पेपरलेस और आसान है बस कुछ बुनियादी विवरण भरें और केवाईसी डॉक्यूमेंट तैयार रखें, और आपका डीमैट अकाउंट खुल जाएगा.

क्या एनआरआई डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं?

हां. एनआरआई किसी भी भारतीय ब्रोकरेज के साथ डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं, लेकिन बैंक ट्रांज़ैक्शन के लिए उन्हें अपने विशिष्ट अकाउंट का उपयोग करना होगा. उपयोग किए गए बैंक अकाउंट के प्रकार के आधार पर निम्नलिखित प्रकार के डीमैट अकाउंट उपलब्ध हैं.

  • रिपेट्रिएबल डीमैट अकाउंट: यह डीमैट अकाउंट एनआरआई लोगों के लिए है जो विदेश में फंड ट्रांसफर कर सकते हैं. यह अकाउंट एनआराई अकाउंट से जुड़ा होना चाहिए
  • नॉन-रिपेट्रिएबल डीमैट अकाउंट: यह डीमैट एनआरआई के लिए भी है, लेकिन वे इससे अपने फंड को ट्रांसफर नहीं कर सकते हैं इसे पहले एनआरओ अकाउंट से लिंक करना होगा

क्या मुझे एसआईपी के लिए डीमैट अकाउंट की आवश्यकता है?

नहीं. एसआईपी के लिए डीमैट अकाउंट होना अनिवार्य नहीं है. हालांकि, तेजी से बढ़ रहे इन्वेस्टमेंट माध्यमों को देखते हुए, डीमैट म्यूचुअल फंड और एसआईपी सहित सभी सिक्योरिटीज़ में ट्रेडिंग के लिए एक वन-स्टॉप-शॉप है. आपका सारा इन्वेस्टमेंट एक ही अकाउंट के माध्यम से होने से आप कई लॉग-इन और अकाउंट बनाए रखने की परेशानी और मेहनत से बच जाते हैं. डीमैट अकाउंट के साथ, आप समय-समय पर अपडेट के साथ अपना पूरा पोर्टफोलियो भी देख सकते हैं.

डीमैट अकाउंट कैसे प्राप्त करें?

  • डीमैट अकाउंट प्राप्त करने के लिए, आपके पास एड्रेस और पहचान के प्रमाण के लिए पैन कार्ड और मान्य डॉक्यूमेंट होने चाहिए
  • इसके पूरा होने के बाद, आप डिपॉजिटरी प्रतिभागी की वेबसाइट पर अकाउंट खोलने का फॉर्म देख सकते हैं
  • फॉर्म भरें और आवश्यक डॉक्यूमेंट अपलोड करें (पैन, एड्रेस प्रूफ, पहचान का प्रमाण, बैंक प्रूफ आदि)
  • एप्लीकेशन पर ई-साइन करें

डीमैट अकाउंट के विभिन्न प्रकार कौन से हैं?

तीन प्रकार के डीमैट अकाउंट हैं जो रिटेल इन्वेस्टर खोल सकते हैं. रेगुलर डीमैट अकाउंट भारत के निवासियों और नागरिकों के लिए है. दूसरी ओर रिपेट्रिएबल और नॉन-रिपेट्रिएबल डीमैट अकाउंट एनआरआई लोगों के लिए बेहतर होते हैं.

क्या कोई व्यक्ति एक से अधिक डीमैट अकाउंट खोल सकता है?

हां, विभिन्न स्टॉकब्रोकर के साथ एक से अधिक डीमैट अकाउंट खोलना संभव है. हालांकि, आप एक ही स्टॉकब्रोकर के साथ एक से अधिक अकाउंट नहीं खोल सकते हैं.

क्या डीमैट अकाउंट ट्रांसफर किया जा सकता है?

आप एक स्टॉकब्रोकर से दूसरे स्टॉकब्रोकर के यहां डीमैट अकाउंट ट्रांसफर कर सकते हैं. आप सीडीएसएल वेबसाइट के माध्यम से अकाउंट ट्रांसफर कर सकते हैं और नए स्टॉकब्रोकर से सत्यापन पूरा करने के बाद, आप डीमैट अकाउंट को ऑपरेट कर सकेंगे. ट्रांसफर प्रोसेस के दौरान, आपके ट्रेड का विवरण सुरक्षित रहता है, इसलिए आपके लिए चिंता की कोई बात नहीं होती.

क्या भारत में आईपीओ के लिए अप्लाई करने के लिए डीमैट अकाउंट होना अनिवार्य है?

हां, अगर आप भारत में आईपीओ के लिए अप्लाई करना चाहते हैं, तो आपके पास डीमैट अकाउंट होना अनिवार्य है.

क्या मैं डीमैट अकाउंट से पैसे निकाल सकता/सकती हूं?

शेयर या सिक्योरिटीज़ बेचने के बाद, इन्हें आपके डीमैट अकाउंट में दिखाई देने में कुछ दिन लगते हैं. यह राशि दिखाई देने के बाद, आप अपने ट्रेडिंग अकाउंट के माध्यम से पैसे निकाल सकते हैं.

क्या मैं ट्रेडिंग अकाउंट खोले बिना डीमैट अकाउंट खोल सकता/सकती हूं?

अगर आप इन्वेस्ट करना चाहते हैं और वेल्थ बनाना चाहते हैं, तो आपको केवल डीमैट अकाउंट की ही आवश्यकता नहीं होगी बल्कि ट्रेडिंग अकाउंट भी खोलना होगा. डीमैट अकाउंट सिक्योरिटीज़ को डिजिटल फॉर्मेट में रखने का काम करता है. इन्वेस्ट करने और ट्रेड एक्जीक्यूट करने के लिए, आपको एक ट्रेडिंग अकाउंट की आवश्यकता होती है ताकि आपकी सिक्योरिटीज़ डीमैट अकाउंट में होल्ड की जा सके. इसलिए, ट्रेडिंग अकाउंट के बिना डीमैट अकाउंट खोलने का कोई मतलब नहीं है.

क्या डीमैट अकाउंट से ट्रेडिंग अकाउंट लिंक करना आवश्यक है?

अगर आप कैश सेगमेंट में ट्रेड करते हैं, जैसे शेयर आदि, तो अपने डीमैट अकाउंट से अपने ट्रेडिंग अकाउंट को लिंक करना अनिवार्य है ट्रेड आपके ट्रेडिंग अकाउंट से एक्जीक्यूट किए जाएंगे और प्रोसेस होने के बाद, वे आपके डीमैट अकाउंट में दिखाई देंगे.

अगर आप कैश सेगमेंट में ट्रेड नहीं करते हैं, तो भी आपको लिंक कर लेने की सलाह दी जाती है. इस तरह, अगर शेयर ट्रांसफर की आवश्यकता होती है, तो आपको अपने डीमैट अकाउंट का विवरण प्रदान करने की परेशानी नहीं झेलनी होगी.

क्या मैं डीमैट अकाउंट से अपना नया ट्रेडिंग अकाउंट लिंक कर सकता/सकती हूं?

हां, आप डीमैट अकाउंट के साथ अपने नए ट्रेडिंग अकाउंट को लिंक कर सकते हैं. आपको अपने ब्रोकर से संपर्क करना होगा और आवश्यक प्रोसेस का पालन करना होगा.

डीमैट अकाउंट के लिए कौन से शुल्क लागू होते हैं?

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए बीएफएसएल कोई शुल्क नहीं लगाता है ब्रोकरेज शुल्क को कम करने के लिए आप किफायती कीमत वाले सब्सक्रिप्शन प्लान में से किसी एक को आसानी से सब्सक्राइब कर सकते हैं बीएफएसएल वार्षिक अकाउंट मेंटेनेंस शुल्क नहीं लगाता है.

तो फिर आप किस चीज का इंतजार कर रहे हैं? आज ही डीमैट अकाउंट खोलें और इन्वेस्ट करना शुरू करें!

फ्रीडम पैक के लिए, अकाउंट खोलना मुफ्त है, 1st वर्ष के लिए शून्य वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क (एएमसी) और 2nd वर्ष से ₹365+जीएसटी का शुल्क लगाया जाता है.
 

डिस्क्लेमर:
हम उन जानकारियों, प्रॉडक्ट्स और सर्विसेज़ को अपडेट करने में पूरी सावधानी बरतते हैं, जो हमारी वेबसाइट और संबंधित प्लेटफॉर्म/वेबसाइट पर उपलब्ध हैं या शामिल हैं, फिर भी जानकारी को अपडेट करने में अनजाने में कोई गलती या टाइपोग्राफिकल त्रुटि या देरी हो सकती है. इस साइट और इससे जुड़े वेब पेजों पर उपलब्ध सामग्री केवल रेफरेंस और सामान्य जानकारी के उद्देश्य के लिए है और किसी भी अनियमितता के मामले में संबंधित प्रॉडक्ट/सर्विस के डॉक्यूमेंट में दिए गए विवरण मान्य होंगे. सब्सक्राइबरों और यूज़रों को यहां इसमें दी गई जानकारी के आधार पर कोई भी कदम उठाने से पहले प्रोफेशनल सलाह ले लेनी चाहिए. कृपया किसी भी प्रॉडक्ट या सर्विस के बारे में, उस प्रॉडक्ट/सर्विस से संबंधित डॉक्यूमेंट और लागू नियम और शर्तों को पढ़ कर ही निर्णय लें. कोई भी अनियमितता दिखाई देने पर कृपया यहां क्लिक करेंः हमसे संपर्क करें.

*शर्तें लागू