फिक्स्ड या फ्लोटिंग ब्याज़ दरें, आपको क्या चुनना चाहिए?

2 मिनट का आर्टिकल

पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करते समय अक्सर उधारकर्ता, प्रदान किए जाने वाले फिक्स्ड और फ्लोटिंग ब्याज़ दरों के बीच भ्रमित हो जाते हैं. ब्याज़ दर का चुनाव दो मुख्य फाइनेंशियल पहलुओं: देय EMI की राशि और पुनर्भुगतान योजना को प्रभावित करता है.

इसलिए सही विकल्प का निर्णय लेने के लिए, पर्सनल लोन जैसे एडवांस पर फिक्स्ड बनाम फ्लोटिंग ब्याज़ दरों का आकलन करके इस अंतर को समझें.

फिक्स्ड ब्याज़ दर क्या है?

फिक्स्ड लेंडिंग सुविधा के तहत, लोन की पूरी अवधि के दौरान निर्धारित दर पर ब्याज़ लिया जाता है. फिक्स्ड ब्याज़ दर का विकल्प चुनने पर, पूरी अवधि के लिए ब्याज़ समान रहता है.

उधारकर्ता निर्धारित ब्याज़ दर के तहत ईएमआई के रूप में अपने निश्चित मासिक भुगतान का आकलन कर सकते हैं और उसके अनुसार अपने फाइनेंस की योजना बना सकते हैं. आमतौर पर फ्लेक्सिबल दरों की तुलना में ये ब्याज़ दरें 1 से 2% के उच्च मार्जिन पर सेट की जाती हैं.

लॉन्ग-टर्म लोन के मामले में यह नुकसानदायक हो सकता है, लेकिन शॉर्ट-टर्म एडवांस के उधारकर्ता पर्सनल लोन का लाभ /a1> ले सकते हैं, क्योंकि इसमें कोई आवधिक संशोधन नहीं होता है और कुल पुनर्भुगतान देयता स्थिर रहती है.

फ्लोटिंग ब्याज़ दर क्या है?

फ्लोटिंग ब्याज़ दरों (जिसे परिवर्तनशील ब्याज़ दर भी कहा जाता है) के तहत, ब्याज़ दर रेपो रेट में बदलाव के साथ आवधिक संशोधन के अधीन होती है, जो RBI द्वारा निर्धारित लेंडिंग बेंचमार्क है.

लेंडर रेपो रेट में स्प्रेड या मार्जिन जोड़ते हैं और RLLR या रेपो लिंक्ड लेंडिंग रेट के नाम से जानी जाने वाली ब्याज़ दर को निर्धारित करते हैं. रेपो रेट में कोई भी बदलाव होने से उधारकर्ताओं को दिए गए लोन और एडवांस पर लागू ब्याज़ दर में भी बदलाव होता है.

हालांकि ऐसे लोन की EMI में कोई परिवर्तन नहीं होता है, फिर भी फ्लोटिंग लेंडिंग रेट वेरिएंट के तहत ब्याज़ दर के एडजस्टमेंट से कुल पुनर्भुगतान देयता में वृद्धि के कारण लोन की अवधि बढ़ सकती है.
हालांकि, फिक्स्ड या फ्लोटिंग ब्याज़ दर में से बेहतर का चुनाव करना उधारकर्ता पर निर्भर करता है.
नीचे दी गई जानकारी की मदद से आप फिक्स्ड बनाम वेरिएबल ब्याज़ दर के बीच चुनने में मदद पा सकते हैं.

फिक्स्ड बनाम फ्लोटिंग ब्याज़ दरें: एक तुलना

निम्न परिस्थितियों में फिक्स्ड लेंडिंग रेट का विकल्प चुनना बेहतर होता है:

  • जब उधारकर्ता अपनी कुल पुनर्भुगतान देयता को बनाए रखना चाहते हैं और शुरुआत में आकलन किए गए EMI और उनके पुनर्भुगतान शिड्यूल में कोई बदलाव नहीं चाहते हैं.
  • अगर वे लेंडिंग दरों से संबंधित मार्केट ट्रेंड में बदलाव के साथ जुड़े जोखिम लेने के लिए तैयार नहीं हैं.

फिक्स्ड ब्याज़ दरों से बेहतर फाइनेंशियल योजना बनाई जा सकती हैं, क्योंकि पुनर्भुगतान अवधि बदली नहीं जाती है.

फ्लोटिंग ब्याज़ दरें उपयुक्त हो सकती हैं, अगर:

  • उधारकर्ता रेपो रेट कट का ट्रेंड समझते हैं. इसमें पुनर्भुगतान देयता को देखने की ज़रूरत होती है, क्योंकि ब्याज़ समय के साथ कम होता है.
  • इससे आय में वृद्धि की संभावना होती है. अपनी लोन देयता को प्री-पे करने का विकल्प चुनने से कुल पुनर्भुगतान राशि और प्री-पेमेंट शुल्क, दोनों पर महत्वपूर्ण बचत करने में मदद मिल सकती है.

फिक्स्ड और फ्लोटिंग ब्याज़ दरों के बीच बेहतर विकल्प का चुनाव, लोन के लिए अप्लाई करते समय आपकी उपयुक्तता पर निर्भर करता है. अगर एक लेंडिंग रेट के लाभ दूसरे को ओवरराइड करते हैं, तो न्यूनतम फीस के भुगतान पर ब्याज़ दर कन्वर्ज़न का विकल्प चुनें.

अधिक पढ़ें कम पढ़ें