पर्सनल लोन और कार लोन के बीच क्या अंतर है?

2 मिनट का आर्टिकल

पर्सनल लोन अनेक तरह के कोलैटरल-मुक्त लोन हैं और इन फंड का उपयोग आप अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं. दूसरी ओर, कार लोन या यूज़्ड कार लोन, विशेष रूप से नई या सेकेंड-हैंड कार खरीदने के लिए होता है.

पढ़ते रहें और यह जानें कि दोनों लोन एक-दूसरे से कैसे अलग हैं.

 

कार लोन

पर्सनल लोन

लोन का प्रकार

सेक्योर्ड लोन, जब कोलैटरल के रूप में कार हो.

अनसेक्योर्ड लोन.

लोन की राशि

कार की वैल्यू पर निर्भर करता है.

बजाज फिनसर्व जैसे टॉप लेंडर रु. 25 लाख तक का लोन ऑफर करते हैं. आपको मिलने वाली लोन राशि, आपकी पात्रता और पुनर्भुगतान क्षमताओं पर निर्भर करती है.

फंड का उपयोग

केवल कार खरीदने के लिए.

इसे किसी भी चीज़ के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. नियोजित या अनियोजित, प्रोफेशनल या व्यक्तिगत खर्चों के लिए, इसका इस्तेमाल किया जा सकता है.

आवश्यक डॉक्यूमेंट

केवाईसी डॉक्यूमेंट, सेलरी स्लिप और बैंक स्टेटमेंट के अलावा, आपको कार के स्वामित्व से संबंधित पेपरवर्क सबमिट करने होंगे.

सिर्फ केवाईसी डॉक्यूमेंट, कर्मचारी आईडी, सेलरी स्लिप, और बैंक स्टेटमेंट की ज़रूरत है.

ब्याज़ दर

ब्याज़ दर और लोन के शुल्क, लेंडर के साथ-साथ अन्य चीज़ों पर भी निर्भर करते हैं.

बजाज फिनसर्व जैसे प्रतिष्ठित फाइनेंशियल संस्थान किफायती ब्याज़ दरों पर पर्सनल लोन देते हैं और मामूली लोन शुल्क लेते हैं.

हालांकि आप अपनी विशिष्ट आवश्यकताओं का आकलन कर सकते हैं और अपनी आवश्यकताओं के अनुसार एक विकल्प चुन सकते हैं, लेकिन याद रखें कि पर्सनल लोन बिना कोलैटरल के अविश्वसनीय उपयोग और लचीलापन प्रदान करता है.

आप पर्सनल लोन की बुनियादी पात्रता मानदंडों को पूरा कर सकते हैं और कार खरीदने के लिए पर्सनल लोन से फंड का उपयोग कर सकते हैं. इसके अतिरिक्त, मंजूरी का मतलब है कि आवश्यकता पड़ने पर आप अन्य जरूरतों या तात्कालिक खर्चों के लिए बैलेंस का उपयोग कर सकते हैं.

अधिक पढ़ें कम पढ़ें