FOIR क्या है? यह पर्सनल लोन अप्रूवल को कैसे प्रभावित करता है?

2 मिनट का आर्टिकल

बैंक और फाइनेंशियल संस्थान विशेष रूप से पर्सनल लोन जैसे अनसेक्योर्ड लोन के लिए अप्रूवल प्रदान करने से पहले लोन एप्लीकेंट की क्रेडिट योग्यता का आकलन करते हैं. एफओआईआर एक ऐसा मानक है जो बैंकों और फाइनेंशियल संस्थानों को यह आकलन करने में मदद करता है. इसका फुल फॉर्म है फिक्स्ड ऑब्लिगेशन टु इनकम रेशियो और एफओआईआर एक लेंडर को यह निर्धारित करने में मदद करता है कि आपके पास पुनर्भुगतान क्षमता है या नहीं.

संक्षेप में, एफओआईआर आपके निश्चित मासिक खर्चों को आपकी निवल मासिक आय के प्रतिशत के रूप में मापता है. इसके परिणामस्वरूप आपकी डिस्पोज़ेबल इनकम पता चलती है, और उससे पता चलता है कि वह लोन पुनर्भुगतान के लिए पर्याप्त होगी या नहीं. अनसेक्योर्ड लोन के मामले में लेंडर द्वारा वहन किया जाने वाला जोखिम अधिक होता है, इसलिए लेंडर द्वारा आपकी पर्सनल लोन पात्रता का आकलन करते समय एफओआईआर काफी महत्वपूर्ण हो जाता है. एफओआईआर की गणना में संभावित लोन के लिए भुगतान योग्य ईएमआई भी शामिल होती है. इसे डेट-टू-इनकम रेशियो के रूप में भी जाना जाता है.

आदर्श रूप से, आपका एफओआईआर 40% से 50% के बीच होना चाहिए. इसका मतलब है कि आपका कुल मासिक खर्च आपकी आय के 50% से अधिक नहीं होना चाहिए. कुछ लेंडर एफओआईआर पर विचार करते हैं जो हाई नेट वर्थ वाले लोगों के लिए 65% या 70% तक जाता है.

FOIR की गणना कैसे की जाती है?

आप एफओआईआर की गणना करने के लिए निम्नलिखित फॉर्मूला का उपयोग कर सकते हैं.

आय अनुपात के लिए निश्चित दायित्व = कुल निश्चित मासिक दायित्व/निवल मासिक सेलरी x 100

इसे निम्नलिखित उदाहरण की मदद से समझें:

एक व्यक्ति ने पांच वर्ष की अवधि के लिए रु. 5 लाख के पर्सनल लोन के लिए अप्लाई किया है. मां लीजिए कि उसकी निवल मासिक आय रु. 80,000 है और उसके निश्चित खर्चों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • कार लोन की ईएमआई के लिए रु. 5,000
  • होम लोन की ईएमआई के लिए रु. 7,000
  • मासिक किराया रु. 8,000
  • अन्य निश्चित भुगतान - रु. 8,000

इसके साथ ही, इस संभावित लोन के लिए गणना की गई ईएमआई है रु. 11,377.

उनका एफओआईआर = (5,000 + 7,000 + 8,000 + 8,000 + 11,377)/80,000 x100 = 49.2%.

यहां, फिक्स्ड मासिक दायित्वों में शामिल हैं:

  • क्रेडिट कार्ड के भुगतान
  • मौजूदा ईएमआई
  • किराए के भुगतान
  • मासिक जीविका के खर्च
  • आप जिस लोन के लिए अप्लाई कर रहे हैं, उसकी ईएमआई
  • क़र्ज़ के अन्य दायित्व, अगर कोई हो

लेकिन, फिक्स्ड या रेकरिंग डिपॉजिट और देय टैक्स को निश्चित मासिक दायित्व नहीं माना जाता.

FOIR पर्सनल लोन अप्रूवल को कैसे प्रभावित करता है?

कम FOIR बनाए रखने से आपके फाइनेंस पर निम्नलिखित तरीकों से असर पड़ता है:

  • कुल देयताओं को कम करता है
  • डिस्पोजेबल इनकम में वृद्धि
  • पुनर्भुगतान क्षमता में सुधार करता है

ऐसे कारक किसी एप्लीकेंट की क्रेडिट योग्यता को बढ़ाते हैं, और इस प्रकार ये लोन पर अप्रूवल प्राप्त करने की आपकी संभावनाओं को बेहतर बनाते हैं.

उच्च एफओआईआर वाले व्यक्ति निम्नलिखित तरीकों का उपयोग करके अपने अप्रूवल की संभावनाओं को बेहतर बना सकते हैं:

  • बकाया लोन की देयता का भुगतान करें
  • ऐसे को-साइनर के साथ अप्लाई करें जिसका FOIR कम है
  • चुने गए लेंडर द्वारा निर्धारित सभी पात्रता मानदंडों को पूरा करें
  • लेंडर को इनकम के किसी अन्य नियमित स्रोत की जानकारी दें

अगर आपका एफओआईआर अधिक है, तो लोन के लिए अप्लाई करने से पहले इसे कम करने के उपाय करें. आमतौर पर, उच्च क्रेडिट स्कोर और कम एफओआईआर के साथ, आप पर्सनल लोन के माध्यम से आसानी से पर्याप्त फंड प्राप्त कर सकते हैं.

अधिक पढ़ें कम पढ़ें