image
Personal Loan

पर्सनल लोन पर GST का प्रभाव

कृपया अपना पूरा नाम दर्ज़ करें
कृपया पूरा नाम दर्ज़ करें
कृपया लिस्ट में से अपने निवास का शहर चुनें
शहर रिक्त नहीं हो सकता है
मोबाइल नंबर क्यों? इससे हमें आपके पर्सनल लोन ऑफर प्राप्त करने में मदद मिलेगी. चिंता न करें, हम इस जानकारी को गोपनीय रखेंगे.
मोबाइल नंबर खाली नहीं रह सकता है

मैं बजाज फिनसर्व के प्रतिनिधि को इस एप्लीकेशन और दूसरे प्रॉडक्ट/ सर्विसेज़ के लिए कॉल/SMS करने हेतु अधिकृत करता हूं. इस सहमति से DNC/NDNC के लिए किया गया रजिस्ट्रेशन मान्य नहीं होगा. नियम और शर्तें

कृपया नियम व शर्तों को स्वीकार करें

OTP आपके मोबाइल नंबर पर भेज दिया गया है

7897897896

गलत OTP, कृपया दोबारा कोशिश करें

अगर आप नया OTP प्राप्त करना चाहते हैं तो 'दोबारा भेजें' पर क्लिक करें

47 सेकेंड
OTP दोबारा भेजें गलत फोन नंबर दर्ज़ किया गया है? यहां क्लिक करें​​​ ​​​​

पर्सनल लोन पर GST का क्या प्रभाव होता है?

भारत सरकार द्वारा 1 जुलाई 2017 को लागू गुड्स एंड सर्विस टैक्स या GST का उद्देश्य, 'एक राष्ट्र एक टैक्स' के दृष्टिकोण को पूरा करना है. यह भारत में बनाई या बेची जाने वाली सभी वस्तुओं और सर्विसेज़ को टैक्सेशन के दायरे में लाता है; पर्सनल लोन उनमें से एक है. हर मौजूदा या संभावित लोन लेने वाले व्यक्ति को पर्सनल लोन पर GST के प्रभाव के बारे में उचित जानकारी होनी चाहिए.


पर्सनल लोन कई उद्देश्यों के लिए उपयुक्त लोन होने के कारण लोन लेने वालों के लिए सबसे अधिक पसंदीदा लोन में से एक है. यह कोलैटरल मुक्त भी है. यह एक तेज़ फाइनेंसिंग का स्रोत है और GST लगने की वजह से, लोन लेने वालों को पहले की तुलना में प्रभावित करता है.

पर्सनल लोन और GST - पहले और बाद की तुलना

GST लागू होने से पहले GST लागू होने के बाद
फीचर कोई बदलाव नहीं कोई बदलाव नहीं
ब्याज़ दर टैक्स से प्रभावित नहीं होता है टैक्स से प्रभावित नहीं होता है
प्रोसेसिंग शुल्क पर्सनल लोन शुल्क की प्रोसेसिंग फीस में 15% सर्विस टैक्स शामिल. पर्सनल लोन की प्रोसेसिंग शुल्क पर 18% का GST लगता है.
पात्रता के लिए मानदंड और डॉक्यूमेंट लोन लेने वालों को पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा और लेंडर के पास आवश्यक डॉक्यूमेंट सबमिट करना होगा. GST लागू होने के बाद पात्रता मानदंडों में कोई बदलाव नहीं हुआ है. हालांकि, बिज़नेस लोन लेने वाले स्व-व्यवसायी को डॉक्यूमेंट के रूप में GST सर्टिफिकेट की कॉपी सबमिट करनी होती है.

पर्सनल लोन पर GST के फायदे और नुकसान

पर्सनल लोन पर 18% GST स्लैब मान्य है, इसलिए इसे लागू करने के कुछ फायदे और नुकसान हैं.

फायदे –

  • बजाज फिनसर्व से लोन लेना किफायती हो सकता है, क्योंकि प्रोसेसिंग फीस और लागू अन्य शुल्क न्यूनतम होते हैं. इस प्रकार, लोन लेने वाले को GST के रूप में मामूली भुगतान करना पड़ता है.
  • GST लगने के बाद, पर्सनल लोन पर पहले लगने वाले कई टैक्स की बजाय केवल एक ही टैक्स लगता है.
  • आप टैक्स का भुगतान केवल एक बार करते हैं.

नुकसान –

पर्सनल लोन पर GST का प्राथमिक नुकसान यह है कि इससे 3% तक टैक्स बढ़ जाता है, इसलिए पर्सनल लोन पर आपके द्वारा भुगतान किए जाने वाले फीस और शुल्क की राशि बढ़ जाती है.

पर्सनल लोन शुल्क पर लागू टैक्स

बजाज फिनसर्व से पर्सनल लोन लेते समय टैक्स निम्न शुल्क के लिए लागू होते हैं –

  • प्रोसेसिंग शुल्क.
  • बाउंस होने पर लगने वाले शुल्क.
  • दंडस्वरूप ब्याज़.
  • आउटस्टेशन कलेक्शन पर शुल्क.
  • लोन अकाउंट स्टेटमेंट शुल्क.
  • फोरक्लोज़र शुल्क.
  • पार्ट प्री-पेमेंट शुल्क.

इसलिए, जब आप पार्ट-प्री-पेमेंट राशि के साथ देय शुल्क जानने के लिए पर्सनल लोन पार्ट प्री-पेमेंट कैलकुलेटर का उपयोग करते हैं, तो यह लागू GST को भी ध्यान में रखता है.

आप पर्सनल लोन पर GST के प्रभाव के बाद भी, लोन का लाभ उठा सकते हैं और आवश्यक शुल्क का भुगतान कर सकते हैं.

इसके अलावा, GST का ब्याज़ या EMI भुगतान पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है, इसलिए पर्सनल लोन की ब्याज़ दरें अप्रभावित रहती हैं.

बजाज फिनसर्व से पर्सनल लोन लेने के लिए अप्लाई करें और बिना किसी टैक्स के बोझ के अपने तत्काल खर्चों को पूरा करें. अप्लाई करने से पहले, पर्सनल लोन EMI कैलकुलेटर का उपयोग करें ताकि आप अपने पुनर्भुगतान की योजना बना सकें.