• Apply Now

Money in bank in 24 hours

Apply Now

कोरोना काल के दौरान ऑनलाइन फ्रॉड बढ़ रहें है: जानिए बचने के तरीके

  • हाईलाइट

  • फरवरी 2020 से लेकर 2021 तक लगभग 12  करोड़ लोग भारत में साइबर क्राइम का शिकार बन चुके हैं। 

  • नॉर्टन साइबर सेफ्टी इनसाइट्स के अनुसार, साइबर क्राइम से सम्बंधित मामले आने वाले समय में भारत में और अधिक बढ़ने वाले हैं। 

  • डिजिटल फ्रॉड से बचने के लिए अपने मोबाइल और कंप्यूटर को हमेशा अपडेट रखें 

आज से कुछ दो-तीन महीने पहले सुरेश को एक टेलिकॉलर की तरफ से फ़ोन कॉल आता है। उस कॉल के दौरान वह टेलिकॉलर यह दावा करता है की वह बजाज की तरफ से बोल रहा है और किसी ज़रूरी काम के लिए उसको अपना के-वाई-सी करवाने की ज़रूरत है। कॉल के दौरान वह उसको के-वाई-सी करवाने के फायदे भी बताता है और कहता है की इसके लिए आपको कुछ धन राशि जमा करवानी पड़ेगी।

अपना काम जल्दी करवाने के चक्कर में वह उनको कुछ राशि ऑनलाइन पेमेंट के द्वारा जमा करवा देता है और जैसे ही काम हो जाता है, वह टेलिकॉलर तुरंत फ़ोन काट देता है।

दुःख की बात यह है कि सुरेश इस धोकेबाज़ी के चंगुल में फंसने वाला अकेला नहीं है। कोरोना काल में साइबर फ्रॉड के मामले तेज़ी से बढ़ते जा रहे हैं और ऐसी स्थिति में सावधान और सचेत रहना एकमात्र उपाय रह गया है।

यदि आंकड़ों की तरफ देखा जाए तो फरवरी 2020 से लेकर 2021 तक लगभग 12 करोड़ लोग साइबर क्राइम का शिकार बन चुके हैं। नॉर्टन साइबर सेफ्टी इनसाइट्स के अनुसार, साइबर क्राइम से सम्बंधित मामले आने वाले समय में भारत में और अधिक बढ़ने वाले हैं|

इस दुविधा की स्थिति में सचेत रहना एकमात्र उपाय है। आइये जानते हैं कैसे कोरोना काल में आप ऑनलाइन फ्रॉड के दलदल में फंसने से बच सकते हैं।


  1. अपने मोबाइल और कंप्यूटर को हमेशा अपडेट करते रहे

    आपको यह जानकर हैरानी होगी परन्तु अधिकांश समय ऑनलाइन हैकर्स आपके पैसे ऐंठने की फिराक में लगे रहते हैं। किसी भी वायरस, हैकर अटैक और मैलवेयर से बचने के लिए आपको अपने मोबाइल और कंप्यूटर को हमेशा अपडेट करवाते रहना चाहिए। हो सके तो अपनी सभी आधुनिक उपकरणों में एंटी-वायरस ज़रूर डाउनलोड करें।

    Infographic-Blog

  2. जांच पड़ताल करने में कमी न छोड़ें

    आपको यह बात पता होनी चाहिए की बैंक कभी भी आपको आपकी निजी जानकारी लेने के लिए ईमेल अथवा एस-एम-एस नहीं करते। यदि आपको कोई भी टेली-कॉलर फ़ोन करके यह दावा करता है की वह किसी बैंक का मुलाज़िम है और आपको किसी स्कीम के बारे में बताना चाहता है तो उस व्यक्ति के बारे में पूरी जानकारी लें और फिर आगे बड़े। ऐसी स्थिति में ठीक यही होगा की आप उस व्यक्ति को होल्ड पर दाल कर, एक बार बैंक से उस व्यक्ति की प्रमाणिकता की जानकारी ले लें।

    यह भी आव्यशक है की आप जान लें की अधिकांश ऑनलाइन फ्रॉड ईमेल द्वारा ही होते हैं। इसलिए किसी भी कीमत पर अपनी निजी बैंक की जानकारी ईमेल द्वारा किसी को न दें।

  3. इन एप्प्स को अपने फ़ोन में न डालें

    Infographic-Blog
    हो सके तो अपने मोबाइल अथवा कंप्यूटर में टीम-व्यूअर, एनीडेस्क, और स्क्रीनशेयर जैसे ऐप्स डाउनलोड न करें। यह ऐप्स हैकर्स और ऑनलाइन धोखेबाज़ों को आपकी निजी जानकारी दे सकते है और आपको मुश्किल स्थिति में पहुंचा सकता है।

    जहाँ इंटरनेट ने पूरे विश्व को एक साथ जोड़ दिया है वहीं इसके बहुत से ऐसे नुकसान हैं जिनको अनदेखा नहीं किया जा सकता।

    इस कोरोना काल में अपनी सुरक्षा करना ही एकमात्र उपाय है।

    सावधान रहें। सुरक्षित रहें।

अधिक जानकारी इस लिंक पर प्राप्त करें:
• Cautionary Note - https://www.bajajfinserv.in/cautionary-notice-new.pdf
• Infosec Page - https://www.bajajfinserv.in/infosec-pages
• Fraud Awareness Blog - https://www.bajajfinserv.in/insights/fraud-awareness

How would you rate this article

 Please let us know why?

What did you dislike?

What did you dislike?

What did you like?

What did you like?

What did you like?